Zomato की आईपीओ डिलीवरी की रफ्तार तेज, अगले हफ्ते 9375 करोड़ रुपये के पब्लिक इश्यू में डी-स्ट्रीट में उतरेगीZomato को IPO के जरिए फंड जुटाने के लिए पिछले हफ्ते मार्केट रेगुलेटर सेबी से मंजूरी मिल गई है।

ज़ोमैटो आईपीओ: व्यापारी और निवेशक जोमैटो के आईपीओ का काफी समय से इंतजार कर रहे थे और अब उनका इंतजार खत्म होने वाला है क्योंकि यह अगले हफ्ते 14 जुलाई को आने वाला है। ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म Zomato ने 72-76 रुपये प्रति शेयर के प्राइस बैंड पर इश्यू के जरिए 9375 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बनाई है। इश्यू ऑफर में नौकरी डॉट कॉम की मूल कंपनी इंफो एज द्वारा ताजा इक्विटी शेयर और ऑफर फॉर सेल (ओएफएस) शामिल है। कंपनी के निवेशकों में Ant Financials, Info Edge, Sequoia और Uber भी शामिल हैं और कंपनी का कोई प्रमोटर नहीं है। कंपनी के मेगा आईपीओ में, योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआईबी) के लिए 75 प्रतिशत और गैर-संस्थागत निवेशकों (एनआईआई) के लिए 15 प्रतिशत आरक्षित है। सार्वजनिक निर्गम का 10% खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित है। आईपीओ में कंपनी के कर्मचारियों के लिए 65 लाख इक्विटी शेयर रिजर्व किए गए हैं।

कीमत का दायरा 72-76 रुपये तय

Zomato के IPO के लिए निवेशक 72-76 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के प्राइस बैंड में बोली लगा सकेंगे। शेयरों का अंकित मूल्य रु. जानकारी के मुताबिक, कम से कम 195 इक्विटी शेयरों के लिए बोलियां लगानी होंगी और उसके बाद आप 195 के गुणकों में बोलियां लगा सकेंगे. जोमैटो को आईपीओ के जरिए फंड जुटाने के लिए पिछले हफ्ते मार्केट रेगुलेटर सेबी से मंजूरी मिल गई है. पेट्रोल-डीजल के दाम आज: मई से अब तक 10 रुपये महंगा हुआ तेल, चारों महानगरों में पेट्रोल 100 के पार

READ  वनप्लस 9 को कड़ी टक्कर देने की तैयारी में Xiaomi 23 अप्रैल को भारत में Mi 11x सीरीज़ लॉन्च करेगी

घाटे में चल रही कंपनी

Zomato द्वारा दायर रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (RHP) के अनुसार, IPO से जुटाई गई धनराशि कंपनी की जैविक और अकार्बनिक विकास पहलों के लिए 6750 करोड़ रुपये होगी और शेष राशि का उपयोग सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए किया जाएगा। . वित्तीय वर्ष 2020 में Zomato की 2742 करोड़ रुपये की आय हुई थी। महामारी के दौरान कंपनी ने 1367 करोड़ रुपये कमाए और अभी भी कंपनी Zomato घाटे में चल रही है। हाल ही में एक फंडरेजिंग के बाद Zomato की वैल्यूएशन 5400 मिलियन डॉलर (40.4 हजार करोड़ रुपये) आंकी गई थी। हाल ही में टाइगर ग्लोबल, फिडेलिटी और क्वोरा मैनेजमेंट समेत कुछ निवेशकों ने Zomato में 250 मिलियन डॉलर (1870 करोड़ रुपये) का निवेश किया था।

Zomato देश की पहली महत्वपूर्ण इंटरनेट लिस्टिंग होगी

विदेशी ब्रोकरेज और रिसर्च फर्म जेफरीज ने इस साल 2021 की शुरुआत में कहा था कि Zomato का IPO भारत में पहली महत्वपूर्ण इंटरनेट लिस्टिंग होगा। जेफरीज के अनुसार, 80 प्रतिशत से अधिक राजस्व के साथ कंपनी के लिए खाद्य वितरण एक मजबूत आधार बना हुआ है, हालांकि अब इस क्षेत्र में कड़ी प्रतिस्पर्धा हो सकती है। ब्रोकरेज फर्म के अनुसार, भारत में खपत होने वाले भोजन की मात्रा भारत की तिमाही जीडीपी के बराबर है और इसका 10 प्रतिशत केवल खाद्य सेवाओं पर खर्च किया जाता है। यह अमेरिका और चीन में खर्च से 50 फीसदी ज्यादा है। जेफरीज के मुताबिक भारत में फूड डिलीवरी में सिर्फ दो कंपनियां Zomato और Swiggy का ही कब्जा है, लेकिन जल्द ही कॉम्पिटिशन बढ़ सकता है। (अनुच्छेद: क्षितिज भार्गव)

READ  पश्चिम बंगाल चुनाव 2021: अमित शाह ने जारी किया बीजेपी का संकल्प पत्र, किसानों को सालाना 10 हजार रुपये देने का दावा

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।