Zomato और Naukri.com (Naukri.com) जैसी इंटरनेट प्लेटफॉर्म कंपनियां भारी बाजार पूंजीकरण के बावजूद इस बार NSE बेंचमार्क निफ्टी-50 में शामिल नहीं हो पाई हैं। हालांकि आने वाले दिनों में उनका दावा काफी मजबूत नजर आ रहा है. निफ्टी-50 में एनएसई पर कारोबार करने वाली 1600 कंपनियों में से टॉप 50 कंपनियां शामिल हैं। कुछ नई कंपनियां अगले महीने टॉप कंपनियों में शामिल होंगी, लेकिन Zomato और Naukri.com की पैरेंट कंपनी Info Edge शामिल नहीं होगी। हालांकि आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने कहा है कि अगली बार जब भी नई कंपनियां शामिल होंगी तो इंफो एज का दावा मजबूत होगा। Zomato की संभावनाएं भी काफी अच्छी दिख रही हैं। आईसीआईसीआई डायरेक्ट की रिपोर्ट में कहा गया है कि बड़े बाजार पूंजीकरण और बिना प्रमोटर होल्डिंग वाली ये कंपनियां निफ्टी-50 में जगह बनाने की प्रबल दावेदार हैं।

Info Edge के शेयर को निफ्टी-50 में जगह क्यों नहीं मिल पाई?

इंफो एज का औसत फ्री-फ्लोट बाजार पूंजीकरण इंडियनऑयल के फ्री-फ्लोट बाजार पूंजीकरण से कम है। इंडियन ऑयल इस लिहाज से निफ्टी-50 में शामिल सबसे छोटी कंपनी है। नियम के मुताबिक, किसी भी शेयर को निफी-50 यानी टॉप 50 कंपनियों में शामिल होने का मौका तभी मिलेगा, जब इस कंपनी का एवरेज फ्री-फ्लोट मार्केट कैपिटलाइजेशन इसमें शामिल सबसे छोटी कंपनी के औसत मार्केट कैपिटलाइजेशन का डेढ़ गुना हो। यहीं पर इन्फो एज पीछे देख रहा है। इंडेक्स जिस तरह से तैयार किया जाता है, उसके अनुसार निवेश योग्य भार कारक यानी IWF इस बात पर निर्भर करता है कि बाजार में व्यापार के लिए कितने शेयर उपलब्ध हैं। ये शेयर फ्री-फ्लोट होने चाहिए यानी वे ऐसे किसी शेयरधारक के हकदार नहीं होने चाहिए, जिनका कंपनी में रणनीतिक हित हो। इन बातों के अलावा निफ्टी 50 में शेयरों की एंट्री पिछले छह महीनों में इसके औसत बाजार पूंजीकरण से तय होती है। इसके मुताबिक इफो एज अगली बार निफ्टी-50 में शामिल होने का सबसे बड़ा दावेदार है।

See also  टैक्स बचाने के लिए किए गए इस उपाय से आप हर महीने केवल 10 हजार रुपये का निवेश कर करोड़पति बन सकते हैं।

स्टॉक टिप्स: रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंची Zomato के शेयर की कीमत, स्विस ब्रोकरेज फर्म ने दी खरीदने की सलाह

कितना मजबूत है Zomato का दावा?

जोमैटो भी अगले कुछ दिनों में निफ्टी-50 के दावेदार के तौर पर और मजबूत होकर उभरेगा। तीन कंपनियां जिन्हें इस समय इंडेक्स में शामिल किया जा सकता है। इनमें इंफो एज, राधाकृष्ण दमानी का एवेन्यू सुपरमार्केट (DMart) और गौतम अडानी की अदानी ग्रीन एनर्जी शामिल हैं। ये नई अर्थव्यवस्था कंपनियां हैं। एक इंटरनेट प्लेटफॉर्म है, दूसरा ग्रोसरी ई-रिटेल है और तीसरा ग्रीन एनर्जी कंपनी है। वर्तमान में DMart और अदानी ग्रीन एनर्जी निफ्टी-50 में शामिल नहीं हो सके क्योंकि यह Future & Option (F&O) का हिस्सा नहीं था।
आईसीआईसीआई डायरेक्ट का कहना है कि निफ्टी-50 में शेयरों को शामिल करने से पता चलता है कि कौन सा सेक्टर लंबे समय में अर्थव्यवस्था में मांग बढ़ाने वाला है।

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और बहुत कुछ फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।