Macrotech Developers IPO: FY22 के लिए पहला IPO 483-486 रुपये का प्राइस बैंड है; निवेश करने से पहले सब कुछ जान लें

लोढ़ा डेवलपर्स आईपीओ ओपन आजलोढ़ा डेवलपर्स आईपीओ ओपन टुडे: भारत की प्रमुख रियल एस्टेट कंपनी मैक्रोटेक डेवलपर्स लिमिटेड का मुंबई स्थित आईपीओ 7 अप्रैल को खुल रहा है।

लोढ़ा डेवलपर्स IPO ओपन टुडे: मुंबई स्थित भारतीय रियल एस्टेट कंपनी मैक्रोटेक डेवलपर्स लिमिटेड का आईपीओ 7 अप्रैल को खुल रहा है। यह वित्त वर्ष 2022 के लिए पहला आईपीओ है। इस आईपीओ में 7 से 9 अप्रैल तक पैसा लगाया जा सकता है। मैक्रोटेक डेवलपर्स लिमिटेड को पहले लोढ़ा डेवलपर्स के रूप में जाना जाता था। कंपनी का लक्ष्य आईपीओ के जरिए 2500 करोड़ रुपये जुटाना है। वहीं, कंपनी ने इस आईपीओ के लिए कीमत 483-486 रुपये तय की है। क्या आपको इस आईपीओ में पैसा लगाना चाहिए, निवेश करने से पहले ज़रूरी बातें जान लें…

एंकर निवेशकों से बढ़ाए गए 740 करोड़

Macrotech Developers Limited ने IPO से पहले ही एंकर निवेशकों से 740 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं। शेयर बाजार को दी गई जानकारी के अनुसार, कंपनी का कहना है कि उसने 14 एंकर निवेशकों से 740 करोड़ रुपये जुटाए हैं। इसने एंकर निवेशकों को 486 रुपये प्रति इक्विटी की दर से 1.52 करोड़ शेयर जारी किए हैं।

बड़ा आकार

इस आईपीओ का लॉट 30 शेयरों का है। यानी कम से कम 30 शेयरों की बोली लगानी होगी। 480 रुपये के ऊपरी मूल्य बैंड के संदर्भ में, कम से कम 14580 रुपये आईपीओ में निवेश करने होंगे। इसके बाद 30 के गुणक में बोली लगाई जा सकती है।

कितना रिजर्व है

इस आईपीओ में, 50 प्रतिशत शेयर योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआईपी) के लिए आरक्षित होंगे। वहीं, 15 प्रतिशत शेयर गैर-संस्थागत खरीदारों के लिए और 35 प्रतिशत खुदरा निवेशकों के लिए आरक्षित होंगे। साथ ही, कंपनी के कर्मचारियों के लिए 30 करोड़ रुपये के शेयर आरक्षित हैं।

फंड का इस्तेमाल कहां होगा

कंपनी अपने कर्ज को कम करने के लिए इस आईपीओ के माध्यम से प्राप्त धन का उपयोग करेगी। साथ ही, कुछ फंडों का इस्तेमाल जमीन खरीदने और सामान्य कॉर्पोरेट जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जाएगा। कंपनी पर दिसंबर 2020 तक कुल 18,662.19 करोड़ रुपये का कर्ज है।

कंपनी ने इस आईपीओ के लिए लगभग 10 निवेश फर्मों को अपने प्रमुख प्रबंधकों के रूप में नियुक्त किया है। इनमें एक्सिस कैपिटल लिमिटेड, जेपी मॉर्गन इंडिया और कोटक महिंद्रा कैपिटल ग्लोबल कोऑर्डिनेटर और बुक रनिंग लीड मैनेजर्स शामिल हैं।

इसके अलावा आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, एडलवाइस फाइनेंशियल सर्विसेज, आईआईएफएल सिक्योरिटीज, जेएम फाइनेंशियल, यस सिक्योरिटीज, एसबीआई कैपिटल मार्केट्स और बैंक ऑफ बड़ौदा कैपिटल मार्केट्स प्रमुख प्रबंधक हैं।

आईपीओ का तीसरा प्रयास

लोढ़ा डेवलपर्स के लिए आईपीओ शुरू करने का यह तीसरा प्रयास है। इससे पहले, कंपनी ने 2009 और 2018 के वर्षों में यह प्रयास किया था। एक बार जब मंदी और दूसरी बार बाजार की धारणा कमजोर थी, तो कंपनी ने वापस खींच लिया।

कंपनी के बारे में

लोढ़ा समूह को मुंबई में ट्रम्प टावर्स और लंदन में ग्रोसवेनर स्कॉर जैसी लक्जरी परियोजनाओं के लिए जाना जाता है। दिसंबर तिमाही में कंपनी का कुल राजस्व 3,160.49 करोड़ रुपये था, जबकि कंपनी को 264.30 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर बहुत कुछ अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: