CIBIL स्कोर क्यों अच्छा होना चाहिए लोन के लिए

CIBIL स्कोर सुधारने के तरीके

CIBIL(सिबिल) का full form क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो ऑफ़ इंडिया लिमिटेड है जिसे CIBIL के नाम से जाना जाता है। यह भारत का पहला क्रेडिट ब्यूरो है जो क्रेडिट स्कोर तैयार करने के लिए लोन लेने वाले के क्रेडिट इतिहास की जानकारी जुटाता है। बैंक और उधार देने वाली संस्थाएं कर्ज की स्वीकृति देने से पहले किसी व्यक्ति की साख और वापस चुकाने की क्षमता का मूल्यांकन करने के लिए  सिबिल स्कोर के रूप में जाने वाले क्रेडिट स्कोर पर भरोसा करते हैं। लोग अपनी वित्तीय आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए लोन लेते हैं। ये आवश्यकताएं एजुकेशन लोन से लेकर होम लोन और कार लोन से लेकर पर्सनल लोन तक अनेक कारणों के लिए हो सकती हैं। एक अच्छा सिबिल स्कोर होने से लोन आसानी से और कम ब्याज दरों पर मिलने की संभावना बढ़ जाती है। हालांकि, केवल सिबिल स्कोर केवल एकमात्र मानदंड नहीं है जो तय करता है कि क्या बैंक आवेदक को लोन देगा या नहीं। लेकिन आवेदक का सिबिल स्कोर ब्याज दर तय करते समय महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। Cibil कभी यह नहीं तय करती की किसको लोन मिलेगा या नहीं, वह सिर्फ व्यक्ती की क्रेडिट रेटिंग करती है। लोन पास करने का पूरा हक वित्तीय संस्थाओ के पास होता है और सबके अपने अपने मापदंड है जिनमे सिबिल स्कोर एक महत्वपूर्ण सिर्फ एक कारक है।

आइये पहले जानते हैं कि सिबिल स्कोर क्या है?

 CIBIL क्रेडिट स्कोर एक 3-अंकीय संख्या है, जिसकी गणना लोन लेने वाले के पहले के लिए गए कर्ज़ के संबंध में विभिन्न उधारदाताओं द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर की जाती है। CIBIL आपके क्रेडिट स्कोर की गणना में पिछले तीन वर्षों के क्रेडिट इतिहास की पूरी गणना करता है।  क्रेडिट इतिहास के अलावा, कुछ अन्य चीजे भी आती है जैसे क्रेडिट उपयोग का अनुपात, बकाया लोन की संख्या, कर्ज की अवधि और पोर्टफोलियो में अनसेफ लोन का पर्सेंटेज जो आपके क्रेडिट स्कोर को प्रभावित कर सकते हैं।

 आम तौर पर, आपका क्रेडिट स्कोर 300 से 900 के बीच होता है, जिसमें 800 के करीब स्कोर को ऋणदाताओं से कम ब्याज दर पर आसानी से लोन लेने के लिए बेहतर माना जाता है। 750 से उपर के सिबिल स्कोर वालों को आसानी से लोन मिल जाता है पर 800 के उपर का स्कोर आवेदक को कम ब्याज पर लोन दिलाता है। देखा गया है कि 80% लोन 750 के उपर सिबिल स्कोर वालों को ही मिलता है। कुछ बैंक या गैर वित्तीय संस्थाएं 650 से 750 के बीच सिबिल स्कोर वालों को भी लोन देती है हालांकि वहाँ ब्याज दर संस्थाएं अपने हिसाब से तय करती है। हाँ अगर सिबिल स्कोर 650 के नीचे है तो लोन मिलना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

जब बात सुरक्षित लोन की हो जैसे कार लोन, होम लोन, और गोल्ड लोन वहाँ संस्थाएं आसानी से लोन पास कर देती है क्योंकि उनके लिए वहाँ वस्तु की रिकवरी आसान है पर जब बात असुरक्षित लोन की हो जैसे पर्सनल लोन तो संस्थाएं सिबिल स्कोर कम होने पर ब्याज दर बहुत बढ़ा देती है। औसतन 650 से 800 सिबिल स्कोर होने तक 5% के ब्याज दर की वृद्धि हो जाती है जो कि कहीं से भी फायदेमंद नहीं है इसलिए सिबिल स्कोर को अच्छा होना जरूरी है। एक अच्छी तरह नियोजित कर्ज सिबिल स्कोर को अच्छा करने में मदद करता है।

अगर कोई यह कहे कि हम तो अपने खर्च हिसाब से करते है और हमे वर्तमान में किसी कर्ज की जरूरत ही नहीं तो हम भला सिबिल स्कोर अच्छा बनाने के लिए कर्ज नियोजित क्यों करे, तो यह सही बात नहीं है। हम भविष्य की घटनाओं और आकस्मिक जरूरतों से अनजान है ऐसे में ब्लैंक क्रेडिट हिस्ट्री नुकसानदायक हो सकती है। इसलिए कम से कम एक क्रेडिट कार्ड लेकर मिनिमम खर्च पर उसे नियोजित करना सिबिल स्कोर अच्छा करने में मदद कर सकता है।

CIBIL स्कोर

एक अच्छा सिबिल स्कोर क्यों होना चाहिये लोन के लिए?

आइये जानते हैं कि अच्छे सिबिल स्कोर के क्या लाभ है –

1. लोन का जल्दी पास होना

जब आप अपने लोन का आवेदन को संस्थाओ को देते हैं, तो वह पहले आपके क्रेडिट स्कोर की जांच करता है और यदि क्रेडिट स्कोर से संतुष्ट है, तो यह केवल आपके आवेदन के आगे के लिए आगे बढ़ाता है। इसलिए, यदि आप एक अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रखते हैं, तो कर्ज दाता आपकी वापस चुकाने की क्षमताओं जैसे अन्य कारकों पर ध्यान देगा, और यदि आपके पास कम क्रेडिट स्कोर है, तो ऋणदाता आपको लोन देने में अनिच्छा दिखाएगा। सीधे तौर पर आपका आवेदन खारिज किया जा सकता है। एक अच्छा सिबिल स्कोर बताता है कि आप कर्ज देने के लिए एक सही आवेदक है और आप समय पर कर्ज वापस करने की क्षमता रखते हैं। इस प्रकार बैंक आपको जितनी जल्दी हो सके कर्ज देने की कोशिश करते हैं। कम क्रेडिट स्कोर वाले लोगों को कई दस्तावेज और गारंटेंटर्स को प्रस्तुत करना होता हैं जिससे लोन देने की प्रक्रिया धीमी हो जाती है।

2. कम ब्याज दर क्रेडिट

उच्च सिबिल स्कोर वाले लोग दूसरों की अपेक्षाकृत कम दर पर लोन प्राप्त करते हैं। कम क्रेडिट स्कोर वाले लोगों को ब्याज की उच्च दरों पर लोन और क्रेडिट प्रदान किए जाते हैं। आप एक उच्च CIBIL स्कोर बनाए रखते हैं, तो आप अपने ऋणदाता के साथ कम ब्याज दर के लिए मोलभाव कर सकते हैं। दूसरी ओर, यदि आपके पास कम CIBIL स्कोर है, तो आपके पास कोई बातचीत विकल्प नहीं है। वास्तव में, आपके पास कम क्रेडिट स्कोर की भरपाई के लिए आपको उच्च ब्याज दर का भुगतान करना पड़ सकता है।

3. अधिक बातचीत का अवसर

एक अच्छे सिबिल स्कोर वाले लोगों को आसानी से और ब्याज की दर कम करवाने का मौका मिलता है। बैंक उन्हें बहुत जल्दी से ऋण देते हैं। यदि आप जानते हैं कि आपका सिबिल स्कोर बहुत अधिक है, तो आपके पास अपनी ब्याज दर को लाने के लिए बातचीत प्राधिकरण है। एक अच्छा CIBIL स्कोर आपको बातचीत और तुलना के विकल्प देता है। CIBIL स्कोर जितना अधिक होगा, आप विभिन्न संस्थाओ से अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आपके पास कई तरह के लोन के ऑप्शन हो सकते हैं, जैसे पर्सनल लोन, होम लोन और कार लोन, जहां ब्याज दरें एक सीमा में एक दूसरे से अलग होती हैं।

4. उच्च स्वीकृति सीमाएं

यदि आपका सिबिल स्कोर उच्च है, तो आपको लोन पर न केवल ब्याज की दर कम मिलती है बल्कि अधिकतम सीमा तक लोन भी मिलने की संभावना है। साफ है कि जब भुगतान वापस करने की क्षमता ज्यादा होगी तो संस्थाएं बिना किसी रिस्क के आसानी से अधिकतम लोन दिया जाता है। यह हर हाल में फायदेमंद ही होता है।

5. अच्छे क्रेडिट कार्ड ऑफ़र

एक अच्छा सिबिल स्कोर वाले लोग, सभी बैंकों से बढ़िया क्रेडिट कार्ड ऑफ़र प्राप्त कर सकते हैं। इन कार्डों में क्रेडिट की उच्चतर सीमाएं, विशेष सुविधाएं, अद्भुत ऑफ़र और कैशबैक भी मिलता है।

 क्रेडिट कार्ड जारी करने वाले बैंक आपको क्रेडिट कार्ड जारी करने से पहले हमेशा आपके क्रेडिट स्कोर की जांच करते हैं। एक क्रेडिट स्कोर जो क्रेडिट इतिहास से प्राप्त होता है, आपके बैंक को आपके पिछले भुगतान ट्रैक रिकॉर्ड दिखाता है। वास्तव में, कई पहली बार कर्ज लेने वाले, जिन्होंने अतीत में किसी भी तरह का लोन नहीं लिया था और इसलिए उनके पास कोई क्रेडिट स्कोर नहीं है, क्रेडिट कार्ड मिलना मुश्किल होता है।

6. अतिरिक्त शुल्क से मुक्ति की संभावना

लोन लेते समय लोन अमाउंट पर एकमुश्त राशि प्रोसेसिंग चार्ज के तौर पर ली जाती है। यहां तक कि लोन लेने के बाद जब आप लोन जल्द से जल्द चुकाना चाहते है तो पाते है कि तय सीमा से पहले चुकाने के लिए भी एक पेनाल्टी चार्ज की जाती है। एक अच्छा CIBIL स्कोर आपके फोर क्लोजर फीस (पूर्व भुगतान) और प्रोसेसिंग फीस भी माफ करवा सकता है। हर बैंक तो नहीं पर कई इस सुविधा की पेशकश करते हैं।

सिबिल स्कोर क्यों अच्छा होना चाहिए लोन के लिए उपरोक्त सभी कारकों से यह साफ हो जाता है।

CIBIL स्कोर कैसे चेक करे?  

आप www.CIBIL.com पर जाकर अपना सिबिल स्कोर चेक कर सकते हैं। साथ ही आप अपना सिबिल स्कोर ऑनलाइन फ्री में चेक कर सकते हैं, पैसा बाजार और प्ले बाजार डॉट कॉम पर जाकर सिर्फ अपने पैन कार्ड डिटेल्स के जरिए वो भी मिनटों में। अपने क्रेडिट स्कोर को समय समय पर जांच कर उसे अच्छा बनाए रखना बहुत जरूरी कदम है ताकि भविष्य की अनदेखी जरूरतों के लिए आप वर्तमान में पूरी तरह से तैयार रहें।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *