CIBIL स्कोर सुधारने के तरीके

CIBIL स्कोर सुधारने के तरीके

आज के परिवेश में जहां सभी को जीवन निर्वाह के लिए पैसे की जरूरत होती ही है वहाँ पैसा बनाने के लिए भी पैसे की आवश्यकता होती है। व्यापार हो या निजी आवश्यकता सभी अक्सर यह सोच कर चिंतित रहते है कि यह पैसा कहां से लाया जाए। इस चिंता का समाधान बैंकों और अन्य ऋण देने वाली एजेंसियों के पास है। सच तो यह है कि भारत के हर कस्बे और शहरों में बैंकों और अन्य ऋण देने वाली एजेंसियों के खुलने के बाद भी उनसे पैसा प्राप्त करना हमेशा आसान नहीं होता है।

 ऋण देने में शामिल जोखिम को देखते हुए, लगभग सभी वित्तीय संगठन किसी व्यक्ति या व्यवसाय इकाई की ऋण पुनर्भुगतान क्षमता को निर्धारित करने के लिए कुछ मानदंडों पर निर्भर करते हैं।

आपका CIBIL या क्रेडिट स्कोर यही सबसे बड़ा निर्धारक है। यही आपके लिए ऋण का लाभ उठाने में सहायता करता है। इसलिये अपने क्रेडिट स्कोर को बनाए रखना आपके लिए महत्वपूर्ण है।

CIBIL भारत का पहला और सबसे विश्वसनीय क्रेडिट रेटिंग ब्यूरो है।भारतीय रिजर्व बैंक ने अनिवार्य किया है कि सभी बैंक मूल्यांकन के समय हर ऋण या क्रेडिट कार्ड आवेदक के CIBIL स्कोर की जांच करें। CIBIL स्कोर ऋण देने वाली एजेंसियों के सामने आवेदक की पहली धारणा के रूप में कार्य करता है। यही तय करता है कि उसे आसानी से ऋण मिल सकता है या नहीं। एक व्यक्ति जो अपने वित्त को अच्छी तरह से प्रबंधित करता है, उसके पास हमेशा उच्च CIBIL या क्रेडिट स्कोर होगा। निम्न CIBIL स्कोर दर्शाता है कि आवेदक की कम साख है और बैंक ऐसे आवेदकों को ऋण देने से बचते हैं।

अब यह जानना जरूरी होगा कि CIBIL स्कोर सुधारने के कौन से तरीके है जिनसे हमे ऋण आसानी से मिल सके। उससे पहले ये जानते है कि CIBIL स्कोर आखिर है क्या?

CIBIL रिपोर्ट में आपकी व्यक्तिगत जानकारी, रोजगार का इतिहास, विभिन्न क्रेडिट कार्डों पर क्रेडिट सीमा, क्रेडिट शेष, और आपके द्वारा विभिन्न खाते खोलने का विवरण शामिल होता है।

इस स्कोर में सुधार करने की आवश्यकता तभी उत्पन्न होगी जब आपका CIBIL या क्रेडिट स्कोर कम हो और आप अपने भविष्य के लिए नए ऋण या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने की योजना बना रहे हों। तो आइये जानते हैं यदि आपका CIBIL स्कोर बहुत अच्छा नहीं है तो वह कौन से टिप्स हैं जिससे आप इसे बेहतर बना सकते हैं। CIBIL स्कोर को सुधारने के तरीके :-

1. क्रेडिट रिपोर्ट की समय – समय पर जाँच

CIBIL स्कोर स्वस्थ रहे इसके लिए आपको अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की नियमित रूप से जांच करनी चाहिए।  अपनी क्रेडिट रिपोर्ट की जांच करने का विचार इसलिए आवश्यक है क्योंकि यह आपको साफ साफ बताएगा कि वो कौन से कारक है जो आपके क्रेडिट स्कोर को सुधारने के लिए बिल्कुल महत्वपूर्ण हैं।

कभी कभी होता यह है कि आपके पास ऐसे ऋण या क्रेडिट कार्ड हों जहां गलती से विलंबित भुगतान मौजूद हैं जो आपके क्रेडिट स्कोर को नीचे ला रहे हैं। उन हालातों में यह जांच आपको बताएगा कि क्रेडिट रिपोर्ट में यह जानकारी भी दर्ज की गई है। यदि आप देखते हैं कि आपके क्रेडिट के बारे में भुगतान में चूक या देरी के रूप में नकारात्मक जानकारी है और रिपोर्ट में उसका उल्लेख किया गया है तो आप स्थिति को ठीक करने के लिए हमेशा बैंक और CIBIL से संपर्क कर सकते हैं। यह क्रेडिट स्कोर को ठीक करने में मदद करता है।

 2. क्रेडिट कार्ड शेष राशि का पूर्ण भुगतान

  CIBIL स्कोर सुधारने के लिए एक और महत्वपूर्ण कार्य आप कर सकते हैं, वह है अपने क्रेडिट कार्ड की शेष राशि को समाप्त करना। अपने खर्चों पर नजर रखते हुए केवल उतनी राशि खर्च करें जितनी आप बिलिंग तिथि के अंदर वापस चुका सकते हैं। क्रेडिट कार्ड की शेष राशि या बैलेंस अमाउंट का तात्पर्य ऋण और ईएमआई पर किसी भी बकाया भुगतान से है।

 अगर पुराने ऋण खाते या क्रेडिट कार्ड है जो अब उपयोग में नहीं है फिर भी थोड़ा बहुत भी बकाया है तो ऐसे हालातों में आप अपने ऋणदाता से बात करें और किसी भी बकाया भुगतान का भुगतान करके अपने ऋण खाते को बंद करें।

 क्रेडिट कार्ड पर इस तरह के अनसुलझे बकाया आपके स्कोर को नीचे लाते हैं। ऐसे बकाया या शेष का भुगतान आपके CIBIL या क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक रूप से दिखाई देगा। साथ ही साथ बेहतर यही होता है कि एक या दो क्रेडिट कार्ड रखा जाए ताकि बिलिंग डेट याद रहे और आपके लिए भुगतानों पर नज़र रखना आसान हो जाए।

3. किसी भी प्रकार की गड़बड़ियों के विवाद का शीघ्र हल

 कई बार क्रेडिट कार्ड में ऑनलाइन फ्रॉड हो जाता है या बिलिंग के समय गलत जानकारी या ट्रांसैक्शन दिखाई देता है। ऐसी परिस्थिति में लोग कई बार उसे वैसे ही छोड़ देते हैं और भुगतान करना जरूरी नहीं समझते है। ऐसे हालातों में सुनिश्चित करें कि आप अपनी CIBIL रिपोर्ट की समीक्षा करने के बाद विक्रेता के माध्यम से किए गए किसी विशेष लेन-देन से असहमत होने पर www.CIBIL.com पर ऐसी गलतियों को इंगित कर तुरंत इस विवाद का समाधान निकालें।

कई बार गलतियां किसी भी तरफ से हो सकती हैं।  यहां तक ​​कि ऋणदाता भी डेटा प्रविष्टि के समय गलतियां कर सकते हैं।

 किसी भी वित्तीय संस्थान के लिए 30 दिनों के भीतर उन विवादों पर कार्रवाई करना अनिवार्य है। एक बार  हल हो जाने के बाद, यह आपके CIBIL या क्रेडिट स्कोर में सुधार दिखाएगा। पुराने विवादों को अनसुलझा छोड़ कर नए क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन ना करें। यह आपके स्कोर को प्रभावित करेगा।

4. पुरानी ऋण की क्रेडिट रिपोर्ट सम्भाल कर रखें

 हम में से बहुत से लोग मानते हैं कि पुराने ऋण खाते जिनका हम उपयोग नहीं कर रहे हैं उन्हें तुरंत बंद कर देना चाहिए।  ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमें यह पता नहीं है कि इसका हमारे CIBIL या क्रेडिट रिपोर्ट और स्कोर पर क्या प्रभाव पड़ता है।

अधिकांश लोग जैसे ही घर या कार की ईएमआई का भुगतान खत्म करते हैं , अपने क्रेडिट रिपोर्ट से इसे हटाने की कोशिश करने लगते हैं। यह एक अच्छा कदम नहीं है। यह तर्क कि जब भुगतान हो चुका है तो उसकी जानकारी का क्या उपयोग, सही नहीं है। पूर्ण रूप से भुगतान किए गए हमारे ऋण अच्छे ऋण कहलाते हैं।

अच्छा ऋण वह ऋण है जिसे आपने अच्छी तरह से संभाला है और सहमत शर्तों के अनुसार भुगतान किया गया है।  अच्छा ऋण आपके क्रेडिट रेटिंग के लिए अच्छा है। आपके अच्छे ऋण का इतिहास जितना लंबा होगा, आपके क्रेडिट या CIBIL स्कोर के लिए यह उतना ही बेहतर होगा।

 अपने क्रेडिट स्कोर को बेहतर बनाने के तरीकों में से एक है कि पुराने ऋण और अच्छे खातों को यथासंभव लंबे समय तक छोड़ दें। इस लिए ऐसी अच्छी साख वाले अकाउंट को बंद ना करते हुए यूँही छोड़ देना बेहतर है।

5.अपनी ईएमआई का तय समय पर भुगतान

 यदि आप भविष्य में किसी बड़ी खरीद या बड़े ऋण जैसे कार , घरेलू उपकरण या घर जैसी खरीदारी करने का इरादा रखते हैं, तो यह पहले से सुनिश्चित करें कि आप समय पर अपने क्रेडिट कार्ड की ईएमआई और बिल चुका रहे हैं। CIBIL स्कोर रातों रात नहीं सुधरते है इसके लिए महीनों का और कई बार साल भर का भी समय लग सकता है। समय पर ईएमआई का भुगतान करना बहुत महत्वपूर्ण है।  यह उन महत्वपूर्ण चीजों में से एक है जो CIBIL स्कोरर आपकी क्रेडिट रेटिंग्स को देखता है और आगे की रणनीति तय करता है। ईएमआई और बिल का समय पर भुगतान आपकी साख को बरकरार रखता है। यद्यपि आपके पास एक बड़ी बचत है फिर भी CIBIL स्कोर में गिरावट भविष्य में घर या कार के मालिक होने के आपके सपने को चकनाचूर कर सकती है।

6. जोखिम भरे कदम, गलत संकेत

 CIBIL स्कोर सुधारने का सबसे उत्तम तरीका यही है कि क्रेडिट उपयोग के इतिहास में जोखिम का प्रदर्शन ना करे।

 सबसे बड़ा जोखिम जो आप लेते हैं वह है कि अचानक कुछेक भुगतान ना करना या हमेशा से काफी कम भुगतान करना जो साफ दर्शाता है कि आपकी भुगतान साख अब कमजोर हो रही है। कई बार ऐसा मजबूरी में भी होता है या परिस्थितियों वश भी होता है पर ऐसे जोखिम भरे कदम भविष्य के लिए क्रेडिट साख को कमजोर करते हैं।

ऐसे जोखिम भरे अचानक परिवर्तन आपके कार्ड जारीकर्ता को डरा सकते हैं। जैसे आप अग्रिम नकद ले रहे हैं या व्यवसाय में अपने कार्ड का उपयोग कर रहे हैं जो आपके वर्तमान या भविष्य के पैसे के तनाव को इंगित कर सकता है। जोखिम भरे सेवाओं के लिए भी क्रेडिट कार्ड से भुगतान, वर्तमान तनाव की छाप क्रेडिट स्कोर पर दिखाई देती है।

आपको ऐसा कुछ भी नहीं करना चाहिए जो आपकी साख के लिए जोखिम का संकेत दे।

7. बिल भुगतान की विश्वसनीयता का प्रदर्शन

हालाँकि आपकी क्रेडिट रिपोर्ट में आपके घरेलु उपयोगिता बिलों (बिजली, पानी या गैस) या फोन बिल (घर, मोबाइल और इंटरनेट) के भुगतान के बारे में जानकारी शामिल नहीं है, लेकिन जब ये देय हों तो तय समय पर इन बिलों का भुगतान करना जरूरी है।

 यदि आप तय समय में इन सेवाओं पर भुगतान नहीं करते हैं, तो आपका क्रेडिट प्रदाता इसे ऋण की तरह ही देखता है और क्रेडिट रिपोर्टिंग एजेंसी को रिपोर्ट कर सकता है, जिस में उन्हें आपकी क्रेडिट रिपोर्ट पर डिफ़ॉल्ट रिकॉर्ड करने के लिए कहा जा सकता है।

 8. क्रेडिट उपयोग के अनुपात पर ध्यान दें

मान लीजिए कि आपकी क्रेडिट कार्ड की लिमिट एक लाख है और आप हर महीने एक लाख की सीमा का उपयोग कर रहें हैं या आपका मासिक वेतन पचास हजार है और आप उस एक लाख मे से पचास हजार की लिमिट उपयोग में ला रहे हैं तो यह एक सही कदम नहीं है। कोशिश करें कि आप अपने क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल हर चीज के लिए न करें।  क्रेडिट कार्ड के क्रेडिट उपयोग अनुपात को 30% या उससे कम रखना बेहतर है।

 ऐसा करने से आपके CIBIL या क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।  अपने मासिक देय शेष को कम रखने से स्वस्थ CIBIL या क्रेडिट स्कोर दिखाई देगा।

 9. अपनी क्रेडिट सीमा बढ़ाना फायदेमंद

 जब आप अपने बैंक से अपनी क्रेडिट सीमा बढ़ाने के लिए कहते हैं, विशेष रूप से क्रेडिट कार्ड के लिए, इसका मतलब यह नहीं है कि आपको अपने सीमा से परे खर्च करने का मौका मिलता है।  यदि इसे सावधानी और समझदारी से व्यवस्थित रूप से सम्भाला जाए तो क्रेडिट सीमा में यह वृद्धि क्रेडिट स्कोर में कई प्लस अंक हो सकती है।

 सीधे शब्दों में इसका मतलब है कि आपके पास अपने क्रेडिट सीमा में बहुत अधिक क्रेडिट उपलब्ध है, और फिर भी यदि आप अपने क्रेडिट उपयोग को कम रखते हैं, तो इसका आपके CIBIL या क्रेडिट स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

 यह करने के बाद यह ध्यान रखें कि आप अपनी भुगतान क्षमता से अधिक खर्च नहीं करेंगे।

10. संयुक्त आवेदक या संयुक्त खाते वाले ध्यान दें

जब ऋण लेते समय आप संयुक्त रूप से आवेदक है तो जोखिम भी बराबर का रहता है।

यह वास्तव में एक ऐसी स्थिति होती है, जहां आप तब भी पीड़ित हो सकते हैं जब गलती आपकी न भी हो।

इसके अलावा यदि आप किसी अन्य व्यक्ति द्वारा लिए गए ऋण के लिए साक्षी बन रहे हैं, और वे अपने भुगतानों में चूक कर रहे हैं, तो भी आप अपना CIBIL या क्रेडिट स्कोर खो देंगे क्योंकि यह भी आपकी रिपोर्ट में भी प्रतिबिंबित होगा।

 इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका यह सुनिश्चित करना है कि संयुक्त ऋण और कार्ड का शेष समय पर भुगतान किए जा रहे हो और किसी और आवेदक के ऋण हेतु साक्षी बनने के लिए खुद को सीमित करें।

उपरोक्त उपायों को अपना कर, आप अपने CIBIL या क्रेडिट स्कोर को काफी हद तक सुधार सकते हैं।

 एक उच्च CIBIL या क्रेडिट स्कोर इंगित करता है कि आपने खर्च और नियमित रूप से शेष चुकाने की आदतों को कितना अनुशासित किया है।

 इस प्रकार, बैंक, अन्य वित्तीय संस्थान और क्रेडिट कार्ड कंपनियां आपको उच्च क्रेडिट सीमा भी प्रदान करेंगी।

 यह जान लीजिए कि एक बुरा क्रेडिट स्कोर आपके भविष्य की क्रेडिट आवश्यकताओं के लिए हानिकारक हो सकता है, पर उस स्थिति से आप वर्तमान में समय रहते निपट सकते है और अपना CIBIL स्कोर सुधार सकते हैं।

हाँ आपको ध्यान में रखने की जरूरत है, वह यह है कि स्कोर में सुधार के लिए कम से कम कुछ महीनों का समय लगता है इसलिए आपको अपने स्कोर में सुधार करने से पहले थोड़ा इंतजार करने की जरूरत है।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *