अब एटीएम से पांच गुना से ज्यादा पैसा निकालने पर लगेगा ज्यादा शुल्क

अब आपको बैंकों के एटीएम से पांच गुना से ज्यादा पैसा निकालने या दूसरी सेवाएं लेने पर ज्यादा फीस देनी होगी। पहले यह शुल्क 20 रुपये था लेकिन अब इसे बढ़ाकर 21 रुपये कर दिया गया है। बढ़ी हुई फीस 1 जनवरी, 2022 से लागू होगी। महानगरों में अन्य बैंकों के एटीएम में तीन बार और छोटे शहरों में पांच बार मुफ्त लेनदेन की अनुमति है। लेकिन नकद निकासी के लिए इंटरचेंज शुल्क 15 रुपये से बढ़ाकर 17 रुपये (प्रति लेनदेन) और अन्य गैर-वित्तीय लेनदेन के लिए 5 रुपये से बढ़ाकर 6 रुपये कर दिया गया है। एक सीमा से अधिक अन्य बैंक के एटीएम से नकद निकासी या अन्य लेनदेन पर इंटरचेंज शुल्क लगाया जाता है। इंटरचेंज शुल्क 1 अगस्त 2021 से लागू होगा।

एटीएम लगाने और रखरखाव शुल्क की लागत बढ़ाने का दबाव था

आरबीआई ने कहा है कि एटीएम की स्थापना और रखरखाव की लागत में वृद्धि के कारण शुल्क में वृद्धि की गई है। एटीएम ऑपरेटर भी लंबे समय से इंटरचेंज फीस में बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे लेकिन बैंक इसके लिए तैयार नहीं था। क्योंकि बैंकों को लगा कि आखिरकार यह बोझ ग्राहकों पर पड़ेगा। आरबीआई ने एटीएम शुल्क और शुल्क की समीक्षा के लिए जून 2019 में एक समिति का गठन किया था। आरबीआई ने कहा है कि इस समिति की सिफारिशों पर विचार करने के बाद एटीएम लेनदेन शुल्क बढ़ाने का फैसला किया गया। पिछली बार एटीएम इंटरचेंज शुल्क संरचना को अगस्त 2012 में बदला गया था।

READ  जून 2021 कार डील: वोक्सवैगन कारों पर 1.33 लाख रुपये तक की छूट - जानिए किस मॉडल पर कितना डिस्काउंट

एलपीजी पोर्टेबिलिटी को मिली मंजूरी, अब एलपीजी सिलेंडर किसी भी वितरक से भर सकते हैं

ऑनलाइन ट्रांजेक्शन बढ़ने से घट रहा है एटीएम का इस्तेमाल

दरअसल, ऑनलाइन ट्रांजेक्शन बढ़ने से एटीएम ट्रांजेक्शन में कमी आई है। ऐसे में एटीएम लगाने का खर्च भी बैंकों को उठाना पड़ रहा है। यही कारण है कि कुछ समय से एटीएम ट्रांजेक्शन की फीस बढ़ाने की मांग उठ रही थी। एटीएम संचालकों ने बैंकों पर दबाव बनाया था। अंततः आरबीआई ने नकद निकालने या एक निश्चित सीमा से अधिक अन्य सेवाओं का लाभ उठाने के लिए निर्धारित शुल्क में वृद्धि करने का निर्णय लिया।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।