होम लोन पर लगने वाले हिडन चार्जेस (अतिरिक्त शुल्क)

home loan hidden charges

होम लोन बहुत से लोगों के लिए एक घर मालिक बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए एक राहत जैसा है। बैंक से संपत्ति की लागत का 75% से 80% पैसा प्राप्त करना आपको अपने सपने के करीब जाने देता है।  आप सोच रहे होंगे कि अपने सपनों के घर को साकार करने के लिए आपको केवल निर्धारित ईएमआई का भुगतान करना होगा?

नहीं!

यह केवल ईएमआई ही नहीं है, जो होम लोन का शुल्क होता है। कुछ अन्य छिपे हुए शुल्क जैसे लोन प्रोसेसिंग फीस, प्रशासनिक शुल्क, दस्तावेज शुल्क, देर से भुगतान शुल्क, कानूनी शुल्क, तकनीकी निरीक्षण शुल्क इत्यादि भी कुछ छिपे हुए शुल्क हैं। होम लोन के लिए वह बैंक आपसे लेता है।

हम इन्हें दो भागों में बांट देते है:-

महत्वपूर्ण शुल्क  और  अतिरिक्त शुल्क

महत्वपूर्ण शुल्क

1.प्रोसेसिंग फीस

 प्रोसेसिंग फीस बैंक द्वारा आपके लोन आवेदन को पास करने के लिए लगाया जाता है।  यह आपके द्वारा आवेदन की गई लोन राशि के प्रतिशत के आधार पर एक बार का शुल्क है।

. मार्केटिंग और सेल्स कॉस्ट

बैंक अपने डीएसए पर खर्च किया शुल्क और प्रबंधन पर किया खर्च कस्टमर से ही वसूल करते हैं। कई बार बैंक लोन डायरेक्ट ना देकर दूसरे डीएसए एजेंसियों द्वारा लोन बेचते हैं तो उनका शुल्क वह कस्टमर से ही लेते हैं। यह सामान्यतः आपके लोन अमाउंट का 0.25 से 1% तक हो सकता है।मान लीजिए कि अगर 40 लाख का लोन है तो आपको 10000 से 20000 तक प्रोसेसिंग फीस आता है।

. लीगल फीस

 बैंक की लीगल टीम होती है जो प्रॉपर्टी के डॉक्यूमेंट चेक करती है और साइट पर जाकर निरीक्षण करती है, प्रॉपर्टी की वैल्यू निकालती है। जिस काम के लिए वकील और निरीक्षक रखने पड़ते हैं, उनका खर्चा बैंक को देना पड़ता है। यह खर्च लीगल फीस के तौर पर लोन लेने वाले से वसूला जाता है। यह 10 से 20 हजार तक होता है। कई बार यह प्रोसेसिंग फीस में जुड़ रहता है जो कि लोगों को नहीं दिखाई देता है और कई बैंक इसे अलग से बताते हैं।

2. प्रशासनिक शुल्क

 प्रशासनिक शुल्क रिकॉर्ड रखने और अन्य प्रशासनिक लागतों के लिए लिया जाता है।  इसमें आपके होम लोन रिकॉर्ड को अपडेट करने के लिए वार्षिक शुल्क भी शामिल है।

3.मॉड चार्ज (MODT)

 बैंक से लोन प्राप्त करने के बाद प्रॉपर्टी के टाइटल डीड (MODT) के मेमोरेंडम को अपनी मर्जी से बैंक के पास जमा करके गिरवी रखा जाता है। जिसकी स्टैम्प ड्यूटी चार्ज के तौर पर 0.1 से 0.2 % तक चार्ज लगता है।

4. होम लोन इंश्योरेंस

होम लोन इंश्योरेंस आपकी लोन राशि का होता है जिसके इंश्योरेंस प्रीमियम के तौर पर ईएमआई में यह अमाउंट जोड़ दिया जाता है। जैसे कि मान लीजिए 40 लाख का लोन है तो ₹400 हर महीने के हिसाब से आपके लोन की ईएमआई में जोड़ दिया जाएगा। यह चार्ज आप बैंक से बात करके हटवा भी सकते हैं।

5. प्री पेमेंट या फोर क्लोजिंग चार्ज

प्रीपेमेंट या फोरक्लोजर चार्जेस तब लगता है जब आप लोन का प्रीपेमेंट करते हैं जैसे कि 40 लाख के लोन में से 5 लाख भर चुके हैं और आपके पास 10 लाख आए हैं तो आप उसे भरना चाहते हैं तो कई बार बैंक 2 से 3% पेनल्टी लगाती है जबकि यह अभी फ्री कर दिया गया है। ऐसे में आपका लोन बचकर 25 लाख रह जाता है।

इस फोरक्लोजर चार्जेस में अन्य जो चार्ज होते हैं वह होते हैं कि अगर आपको अपना फ्लोटिंग इंटरेस्ट रेट है उसको हटाकर फिक्स रेट करना है या फिर अपना लोन दूसरे बैंकों को ट्रांसफर करना है तो बैंक शुल्क लेते हैं।

6. कन्वर्शन चार्ज और स्विच फीस ( स्थान्तरित करने के लिए)

कई बार नए कस्टमर को लुभाने के लिए बैंक अच्छे इंटरेस्ट रेट ऑफर करते हैं। अगर आप चाहे तो वहां अपना लोन ट्रांसफर कर सकते हैं। उसके लिए आप 0.5 से 1% तक का चार्ज देकर इंटरेस्ट रेट कम कर सकते हैं।

स्विचिंग फीस में अगर आप फिक्स्ड से फ्लोटिंग इंट्रेस्ट में जाते हैं या फ्लोटिंग इंट्रेस्ट फिक्स्ड में आते हैं तो उस हालत में भी बैंक आपको एक स्विचिंग फीस चार्ज करते हैं जो कि एक से दो पर्सेंट तक हो सकता है। मान लीजिए कि आपका फ्लोटिंग रेट 10 % है और फिक्स रेट 11 % मिल रहा है पर आप सोचते हैं कि 11 % ठीक है, क्या पता फ्यूचर में फ्लोटिंग रेट और ज्यादा बढ़ जाए, ऐसी हालत में स्विच करने पर भी आपको स्विचिंग फीस लगता है।

अतिरिक्त शुल्क

1. विलंब शुल्क (लेट फीस)

 जैसा कि नाम से पता चलता है, लेट पेमेंट चार्ज तब लगाया जाता है जब आप ईएमआई के भुगतान में देरी करते हैं जाहिर है कि बैंक आपसे जुर्माना वसूल करेगा। आपको देर से भुगतान के लिए ईएमआई के साथ ब्याज का भुगतान करना होगा। बैंक आपसे उस समय के लिए 2% तक का अतिरिक्त ब्याज वसूल सकते है।

2. चेक बाउंस या ecs वापस जाना

अगर आपका दिया गया पोस्ट डेटेड चेक वापस चला गया है या ecs बैंक से बिना क्लीयर हुए वापस जाती है तो उसका 500-1000 तक जुर्माना देना हो सकता है।

3. लोन की समय सीमा बदलना

माना कि आपने पंद्रह साल का लोन लिया है और अब महीने पर अतिरिक्त भार के चलते आप उसे बीस साल कर देते हैं तो इस बदलाव के लिए बैंक एकमुश्त रकम चार्ज करती है।

4. ईएमआई भरने का तरीका बदलने का चार्ज

अगर आप पहले पोस्ट डेटेड चेक से भर रहे थे और अब ecs करना चाहते हैं या ecs से चेक पर स्थान्तरित होना चाहते हैं तो बैंक उसके लिए भी चार्ज करती है।

5. अकाउंट का विवरण, कॉपी और डॉक्यूमेंट की लिस्ट

वैसे तो अकाउंट का स्टेटमेंट ऑनलाइन निशुल्क मिलता है पर यदि आपको टैक्स में देने के लिए साइन की हुई कॉपी चाहिए तो 250-500 खर्च करना पड़ता है। बैंक में जमा करने से पहले डॉक्यूमेंट की स्कैन कॉपी हमेशा अपने पास रखनी चाहिए क्योंकि बैंक इस कॉपी के 1000 रुपये तक चार्ज कर सकता है। उसी तरह खरीद बिक्री के समय लगने वाले डॉक्यूमेंट के लिस्ट के लिए भी बैंक एकमुश्त शुल्क लेता है।

6. दस्तावेज़ वापस देने का शुल्क

 होम लोन की प्रोसेसिंग करते समय, महत्वपूर्ण दस्तावेजों को आमतौर पर एक केंद्रीय स्थान पर रखा जाता है। दस्तावेज़ की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बैंक सबसे कुशल कूरियर सेवाएं पसंद करते हैं। इसलिए बैंक आपके होम लोन के बंद होने पर दस्तावेजों को वापस भेजने के दौरान आपसे डॉक्यूमेंट फीस वसूल करेगा।

उपरोक्त सारे शुल्क में से ज्यादा ध्यान देने योग्य महत्वपूर्ण शुल्क है जो प्रतिशत में वसूले जाते है और जानकारी के अभाव में जेब पर भारी पड़ सकते हैं।

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *