होम लोन कैसे ले? – प्रक्रिया, दस्तावेज और फीस

होम लोन कैसे ले

हमारा अपना एक घर हो जिसका मालिकाना हक हमारे पास हो, ये सपना लगभग हर व्यक्ति देखता है। यह पूरी जिंदगी फाइनेंसियल सिक्युरिटी सुनिश्चित करने का एक तरीका है क्योंकि सबका मानना यही है कि यह सुरक्षात्मक अनुभूति एक किराए के घर में रहने से नहीं आती है। सबसे पहले जानने वाली बात यह है कि घर खरीदना एक जटिल प्रक्रिया है। चाहे वह डाउन पेमेंट के रूप में दी जाने वाली अपनी बचत हो, या निवेश करने के लिए सही इलाके का पता लगाना हो, कुल मिलाकर घर खरीदने की प्रक्रिया काफी विस्तृत है। आप सब को पता ही है कि प्रॉपर्टी में निवेश, हमारी बचत का एक बड़ा हिस्सा लेते हैं, इसलिए हम में से ज्यादातर लोग होम लोन का सहारा लेते हैं। यह बिल्कुल सही निर्णय है और आप एक होम लोन ले सकते हैं जिसका तीस साल तक के कार्यकाल के लिए आसान मासिक किश्तों (ईएमआई) में भुगतान कर सकते हैं। अब आता है कि होम लोन कैसे ले और इसकी प्रक्रिया क्या है? आइये जानते हैं स्टेप बाइ स्टेप होम लोन की प्रक्रिया को :-

1: आवेदन फॉर्म भरें

 होम लोन लेने की प्रक्रिया की शुरुआत लोन लेने वाले द्वारा एक आवेदन फॉर्म भरने के साथ शुरू होती है। आवेदन फॉर्म सबसे बुनियादी दस्तावेज है जिसमें आपको अपने नाम, पता, फोन नंबर व्यवसाय, मासिक और वार्षिक आय और शिक्षा के विवरण जैसे, अपने बारे में व्यक्तिगत जानकारी साझा करनी होती है।  आपको उस संपत्ति के बारे में भी जानकारी देनी होती है जिसे आप खरीदना चाहते हैं। उस संपत्ति का अनुमानित दाम और आपके द्वारा भुगतान किए जा सकने वाले पेमेंट का मूल्य कितना है। ध्यान दें कि आपको अपने आवेदन फॉर्म के साथ अपना आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ, इनकम सर्टिफिकेट, पिछले तीन साल का आईटीआर, बैंक स्टेटमेंट आदि प्रस्तुत करना होगा।

 2: डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन (दस्तावेज सत्यापन)

 अपने दस्तावेज़ जमा करने के बाद, बैंक आपके द्वारा दिए गए दस्तावेज़ों की जांच करता है। यह होम लोन प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण पहलू है और बैंकों को आपके दस्तावेजों को वेरिफाई करने में दो दिन लग सकते हैं। इस दौरान, आपको बैंक का दौरा करने और आमने-सामने इंटरव्यू के लिए भी कहा जा सकता है। यह बैंक चेक करने का तरीका है कि आप निर्धारित समय के भीतर अपना लोन चुकाने में सक्षम हैं या नहीं।

 3:  बैकग्राउंड (पृष्ठभूमि) की जांच

 आपके दस्तावेजों को सत्यापित करने के अलावा, बैंक लोन लेने वाले की साख की बैकग्राउंड जाँच भी करता है। इसके लिए बैंक आपके पिछले और वर्तमान आवासीय पते, आपके रोजगार के स्थान, आपके रोजगार देने वाले की साख सहित कार्यालय से संपर्क विवरण आदि, आवेदन पत्र में आपके द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर जांच कर सकता है। कुल मिलाकर मतलब यह है कि आपने फॉर्म में जो भी जानकारी भरी है कहीं उसमे कोई गडबड़ी तो नहीं इसके लिए थोड़ा समय वह लेते हैं।

होम लोन कैसे ले प्रक्रिया

(PC-switchme.com)

4: प्रोसेसिंग फ़ी का भुगतान

 आपकी लोन चुकाने की क्षमता के बारे में बैंक द्वारा आश्वस्त होने के बाद वह होम लोन की प्रक्रिया शुरू करता है। जैसे, आपको एक प्रोसेसिंग शुल्क का भुगतान करना होगा जो कि बैंक द्वारा आपके लोन आवेदन को पास करने के लिए ली जाने वाली राशि है। बैंक आमतौर पर प्रिंसिपल लोन की राशि के 0.25% और 0.50% के बीच कहीं भी शुल्क लेते हैं साथ ही प्रोसेसिंग फ़ी के उपर लगने वाला जीएसटी l यह शुल्क होता है बैंक द्वारा की गई मेहनत का खर्चा जो वह यह पता लगाने में खर्च करती है कि आपने जो जानकारी दी है वह सही है कि नहीं। इस जांच के कारण बैंक एक प्रोसेसिंग शुल्क लेता है। यह जरूरी नहीं है कि आपका लोन पास हो, हर लोन अप्लाइ के लिए प्रोसेसिंग शुल्क पहले भरना पड़ता है।

 5: लोन पास होने की प्रक्रिया

 अब तक, पूरी होम लोन प्रक्रिया में सबसे महत्वपूर्ण चरण यही है कि बैंक अब यह तय करता है कि आपके लोन को स्वीकृत या अस्वीकार करना है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका लोन अस्वीकार नहीं किया गया है, आपको सभी लिस्टेड डॉक्यूमेंट को ईमानदारी से देना होगा। यह वह चरण भी है जिसमें लोन लेने वाला बैंक द्वारा पास अधिकतम लोन राशि का पता लगा सकता है।  बैंक इन सभी जानकारी को आपको एक आधिकारिक मंजूरी पत्र (अप्रूवल लेटर) भेजकर पुष्टि करता है कि आपका लोन पास हो गया है।

 6: संपत्ति के दस्तावेजों को आगे प्रोसेस करना

 जब आप अपने लोन को मंजूरी देने वाले अप्रूवल लेटर को प्राप्त करते हैं, तो आपको मूल संपत्ति के पेपर लोन देने वाले बैंक में जमा करने होते हैं, जो तब तक बैंक की हिरासत में रहते हैं जब तक कि लोन पूरा नहीं चुका दिया जाता है। मूल संपत्ति दस्तावेजों में आम तौर पर प्रोपर्टी ओनरशिप के दस्तावेजों की पूरी श्रृंखला शामिल होती है और आपके सेल एग्रीमेंट, एनओसी के साथ साथ विक्रेता के नाम, आईडी और पते के प्रमाण के साथ संबंधित सारी जानकारी देनी होती है। बैंक लोन पास करने से पहले और बाद में संपत्ति के दस्तावेजों की पुष्टि व्यक्तिगत रूप से किसी प्रतिनिधि को भेज कर करवाता है।

 7: लोन अमाउंट आपके खाते में आना

 पूरे होम लोन प्रक्रिया में अंतिम चरण लोन का आपको प्राप्त हो जाने का चरण है। इसमें लोन सौदे का पंजीकरण अर्थात लोन लेने वाले द्वारा शर्तों को स्वीकार करना, लोन समझौते के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करना और बिक्री समझौते में दिए गए शर्तों के अनुसार लोन का वितरण शामिल होता है, जैसे कब कब और कितना पेमेंट दिया जाएगा, जिसमें डाउन-पेमेंट भी शामिल है।

अगर सारी प्रक्रिया को समझ लिया जाए तो होम लोन लेना आसान हो जाता है और रिजेक्ट होने की संभावना कम हो जाती है।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *