स्वास्थ्य बीमा में नो क्लेम बोनस यहां वह सब है जो आपको जानना आवश्यक है‘नो क्लेम बोनस’ एक तरह का रिवॉर्ड फीचर है जो बीमा कंपनियां अपने ग्राहकों को किसी भी साल में क्लेम नहीं लेने पर देती हैं।

स्वास्थ्य बीमा में नो क्लेम बोनस: जब आप एक स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी खरीदते हैं, तो हर साल कवरेज के लिए एक निश्चित प्रीमियम का भुगतान करना होता है। आप पॉलिसी अवधि के दौरान अस्पताल में भर्ती होने के खर्च के लिए दावा कर सकते हैं, जो कवरेज के अनुसार इलाज की लागत को कवर करता है। हालांकि, अगर आपने किसी साल के लिए कोई क्लेम नहीं लिया है, तो ऐसे में क्या आपको कोई फायदा है? बिल्कुल होता है और हेल्थ इंश्योरेंस के तहत अगर आपने किसी पॉलिसी टर्म के दौरान कोई क्लेम नहीं किया है तो इंश्योरेंस कंपनी ‘नो क्लेम बोनस’ (एनसीबी) की सुविधा देती है। यह एक तरह का रिवॉर्ड फीचर है जो बीमा कंपनी अपने ग्राहकों को किसी भी साल में क्लेम न लेने पर देती है। ‘नो क्लेम बोनस’ इसमें एक बड़ी भूमिका निभा सकता है कि चिकित्सा मुद्रास्फीति के कारण आपका स्वास्थ्य बीमा कवरेज प्रभावित न हो।

बीमा योजना: इन तीन बीमा योजनाओं से खुद को कवर करें, अपने आज और कल को सुरक्षित बनाएं

ये है नो क्लेम बोनस का फायदा

  • ‘नो क्लेम बोनस’ फीचर की सबसे खास बात यह है कि यह हर साल जुड़ता रहता है यानी हर क्लेम मुक्त साल में यह बढ़ता जाता है। इसके तहत बीमा कंपनियां अपने द्वारा दिए जाने वाले बोनस से पॉलिसी प्रीमियम में छूट प्राप्त कर सकती हैं। इसके अलावा, बीमा कंपनियां पॉलिसी प्रीमियम में बिना किसी बदलाव के बीमा कवरेज बढ़ाने के लिए जिम, स्पा और योग सदस्यता या वेलनेस से संबंधित उत्पादों की पेशकश करती हैं।
  • जो लोग अपनी मौजूदा बीमा कंपनी से खुश नहीं हैं और दूसरी बीमा कंपनी में शिफ्ट होना चाहते हैं तो यह बोनस भी ट्रांसफर हो जाता है। हालांकि, यह आवश्यक है कि इसका लाभ लेने के लिए नवीनीकरण तिथि से पहले स्वास्थ्य नीति को नवीनीकृत करना होगा। सभी बीमा कंपनियां प्रारंभिक नवीनीकरण तिथि से नवीनीकरण के लिए 30 दिन का समय देती हैं और यदि इस अवधि के दौरान पॉलिसी का नवीनीकरण नहीं किया जाता है, तो बोनस समाप्त हो जाएगा।
See also  रक्षा बंधन: व्हाट्सएप पर स्टिकर भेजकर भाई-बहन को बधाई, ऐसे करें डाउनलोड

क्रिटिकल इलनेस पॉलिसी नियमित स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी से कैसे अलग है? इसमें निवेश करने के क्या फायदे हैं?

  • व्यक्तिगत और पारिवारिक फ्लोटर स्वास्थ्य बीमा योजनाओं दोनों के लिए नो क्लेम बोनस लागू है।
  • कितना मिलेगा बोनस, यह बीमा कंपनियों की शर्तों पर निर्भर करता है। ऐसे में हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते समय एनसीबी के तहत इंश्योरेंस कंपनियां क्या ऑफर कर रही हैं, इसकी जांच होनी चाहिए। कुछ बीमा कंपनियां बीमा राशि को 200% तक बढ़ाने की सुविधा प्रदान करती हैं। उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति ने 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदी है और लगातार चार वर्षों तक कोई दावा नहीं किया है, तो हर साल उसकी बीमा राशि 50 प्रतिशत यानी 2.5 लाख रुपये बढ़ सकती है और चार साल बाद कुल बीमा राशि 15 लाख रुपये होंगे। हालांकि, फिलहाल केयर हेल्थ इंश्योरेंस के केयर प्लस प्लान में बीमा राशि को 200% तक बढ़ाने की सुविधा उपलब्ध है।
  • केयर प्लस प्लान की बात करें तो इसमें बीमाधारक को एक विशेष लाभ ‘नो-क्लेम बोनस प्रोटेक्शन’ भी मिलता है। यदि आपने किसी पॉलिसी अवधि के दौरान किसी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत बीमा राशि के 25% तक का दावा किया है, तो NCB लाभ जारी रहेगा। अगर यह सुरक्षा नहीं है, तो अगर आप बीमा राशि के 10 प्रतिशत तक का दावा करते हैं, तो भी एनसीबी का लाभ नहीं मिलेगा।
    (अमित छाबड़ा, प्रमुख – स्वास्थ्य बीमा, पॉलिसीबाजार डॉट कॉम)

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, हमारा अनुसरण इस पर कीजिये ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

See also  मूडीज ने घटाया भारत की विकास दर का अनुमान, कहा- कोरोना की दूसरी लहर ने बरपाया कहर