स्वास्थ्य बीमा खरीदने से पहले आपको अपने स्वास्थ्य के बारे में सटीक जानकारी देनी होगी।

स्वास्थ्य बीमा का चुनाव सोच-समझकर करना चाहिए। हमें अपनी स्वास्थ्य आवश्यकताओं के अनुसार बीमा पॉलिसी भी चुननी चाहिए। स्वास्थ्य बीमा लेते समय आपको अपने मेडिकल रिकॉर्ड की सटीक जानकारी देनी चाहिए। कभी भी किसी पुराने रोग को छिपाने की कोशिश न करें। यदि आप पुरानी बीमारी को छुपाते हैं या कोई गलत जानकारी देते हैं, तो बीमा कंपनी दावे का भुगतान करने से मना कर सकती है। अगर आपको कोई पुरानी बीमारी है, तो आपको थोड़ा अधिक प्रीमियम देना पड़ सकता है, लेकिन आप सही जानकारी देकर बीमा लेते हैं।

डायबिटीज या बीपी जैसी समस्याओं को न छिपाएं

आमतौर पर देखा गया है कि लोग हेल्थ पॉलिसी लेते समय डायबिटीज या बीपी जैसी समस्याओं का जिक्र नहीं करते क्योंकि उन्हें लगता है कि इससे उनकी पॉलिसी रिजेक्ट हो सकती है या उन्हें ज्यादा प्रीमियम देना पड़ सकता है। इसलिए अपनी सेहत की ऐसी समस्याओं को कभी न छिपाएं। बाजार में कई तरह की हेल्थ पॉलिसी उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए, कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के लिए प्रधान स्वास्थ्य योजना, दुर्घटना नीति या विशेष कोरोना कवच नीति। प्रत्येक पॉलिसी की शर्तें अलग हैं, कवरेज अलग है। ऐसे में कोई भी प्लान चुनने से पहले उसके फीचर्स को अच्छे से समझ लें।

1 जुलाई से किन लोगों को देना होगा दोगुना टीडीएस, जानिए क्या आप भी इस कैटेगरी में हैं?

कंपनी कवर के अलावा हेल्थ पॉलिसी लें

भले ही आपने कंपनी से स्वास्थ्य बीमा कवरेज प्राप्त किया हो, एक अलग पॉलिसी खरीदने की आवश्यकता है। कई लोगों का मानना ​​है कि अलग से पॉलिसी खरीदने की जरूरत नहीं है। ऐसी गलती नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह कवर तभी तक मिलता है जब तक आप कंपनी के कर्मचारी हैं। जैसे ही आप कंपनी छोड़ते हैं, आपके पास कोई हेल्थ कवर नहीं रहता है। ऐसे में अलग से हेल्थ पॉलिसी होनी चाहिए ताकि आपके पास हमेशा हेल्थ कवर रहे।

READ  उत्तर प्रदेश सरकार ने विदेशों से कोविद वैक्सीन प्राप्त करने का निर्णय लिया है, वैश्विक निविदा 4 करोड़ वैक्सीन के लिए जारी की जाएगी

स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी का उपयोग दिन-प्रतिदिन के चिकित्सा और चिकित्सा खर्चों के लिए नहीं किया जाना चाहिए। बार-बार दावों के लिए स्वास्थ्य पॉलिसी के नवीनीकरण के समय कोई दावा बोनस उपलब्ध नहीं है। यह बोनस प्रतिशत हर साल जोड़ा जाता है, दावा नहीं लिया जाता है और छूट प्रीमियम के 50% तक जाती है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।