स्टॉक टिप्स Zomato के निकट-अवधि के विकास को HSBC ने कम करके शुरू किया, स्टॉक की कीमत में 15 प्रतिशत की गिरावट देखी गईHSBC के विश्लेषकों के अनुसार, Zomato उन लोगों के लिए नहीं है जो कैलोरी को लेकर सतर्क हैं या ऐसे निवेशक जो Zomato के मूल्यांकन को लेकर सतर्क हैं।

जोमैटो आउटलुक: स्टॉक एक्सचेंजों पर सूचीबद्ध होने के कुछ ही हफ्तों के भीतर, इसकी कीमतें आईपीओ मूल्य से 71 प्रतिशत अधिक प्रीमियम पर हैं। कई घरेलू और विदेशी ब्रोकरेज फर्मों का मानना ​​है कि जोमैटो के शेयर की कीमत में और मजबूती आ सकती है लेकिन एचएसबीसी ने ‘रिड्यूस’ रेटिंग वाली इस ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी का कवरेज शुरू कर दिया है। एचएसबीसी ने पिछले सप्ताह अपनी रिपोर्ट में कहा था कि भारत में खाद्य वितरण उद्योग घर के बने भोजन से रेस्तरां के भोजन में एक महत्वपूर्ण संक्रमण के कगार पर है और अब यह स्वयं का एक उत्पाद बनने वाला है। रिपोर्ट के मुताबिक लॉन्ग टर्म में ग्रोथ की संभावनाएं बेहतर होती हैं लेकिन शॉर्ट टर्म में मार्केट अपनी ग्रोथ का ज्यादा अनुमान लगा सकता है। फिलहाल इसके शेयर 130 रुपये के भाव पर हैं. HSBC के मुताबिक Zomato के शेयर में 15 फीसदी तक की गिरावट आ सकती है और इसके लिए टारगेट प्राइस 112 रुपये रखा गया है.

Zomato की लाइव कीमत यहां देखें

Zomato . के सामने ये हैं बड़ी चुनौतियां

HSBC के विश्लेषकों के अनुसार, Zomato उन लोगों के लिए नहीं है जो कैलोरी के प्रति सचेत हैं या ऐसे निवेशक हैं जो Zomato के मूल्यांकन को लेकर सतर्क हैं। ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक, ज्यादातर भारतीयों की बाहर के खाने के बारे में अच्छी धारणा नहीं है। इसके अलावा HSBC के मुताबिक, Zomato e-grocery की तरफ शिफ्ट होना आसान नहीं है क्योंकि इसके लिए ज्यादा कैश की जरूरत होगी। इसके अलावा एचएसबीसी के विश्लेषकों के मुताबिक जोमैटो के सामने तीसरी सबसे बड़ी चुनौती वैल्यूएशन को लेकर है, जिससे कंपनी की ग्रोथ आक्रामक नजर आ रही है।

See also  बारबेक्यू नेशन: बारबेक्यू नेशन के आईपीओ में पैसा लगाएं? राकेश झुनझुनवाला ने कंपनी में निवेश किया है

आईपीओ आवंटन की संभावना बढ़ाएं: आईपीओ आवंटन की संभावना कैसे बढ़ाएं आवेदन करने के लिए इन आसान चरणों का पालन करें

HSBC के विश्लेषकों के अनुसार, Zomato ने इकाई अर्थशास्त्र में सुधार किया है लेकिन इसके बचने की संभावना कम है। निकट से मध्यम अवधि (कोविड-19 के बाद) में, कार्यालयों से ऑर्डर बढ़ने के कारण Zomato की बिक्री बढ़ सकती है, लेकिन इससे औसत ऑर्डर मूल्य कम हो जाएगा। एचएसबीसी के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 20211-22 में औसत ऑर्डर वैल्यू में 5 फीसदी की गिरावट आ सकती है और इसके बाद इसमें 6 फीसदी की अतिरिक्त गिरावट हो सकती है।

Zomato . के लिए प्रतिस्पर्धा कोई समस्या नहीं है

मुकाबले की बात करें तो एनालिस्ट इसे Zomato के लिए चुनौती नहीं मान रहे हैं। इसके लिए HSBC के विश्लेषकों ने देश के छह से अधिक शहरों में 150 से अधिक रेस्तरां में Zomato और Swiggy की छूट की तुलना की। एनालिस्ट्स के मुताबिक स्विगी ज्यादा डिस्काउंट ऑफर करती है लेकिन कस्टमर्स स्विगी की तरह जोमैटो से शिफ्ट नहीं हुए हैं। दूसरी ओर, Zomato को Amazon से भी कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है, जो स्विगी के बराबर अधिक छूट देता है, लेकिन वर्तमान में इसकी उपस्थिति केवल बैंगलोर में है।
(अनुच्छेद: क्षितिज भार्गव)

(कहानी में दी गई स्टॉक सिफारिशें संबंधित शोध विश्लेषक और ब्रोकरेज फर्म की हैं। फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है। पूंजी बाजार में निवेश जोखिम के अधीन हैं। कृपया निवेश करने से पहले अपने सलाहकार से परामर्श लें।)

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

See also  इंट्राडे ट्रेडिंग: यहां आपको कुछ ही घंटों में बंपर रिटर्न मिल सकता है, लेकिन इन 5 टिप्स को ध्यान में रखें