सप्ताह में 4 आईपीओ अर्जित करने के लिए 3 दिनों में बैंक सूची में सूचीबद्ध होना चाहिए, लिस्टिंग लाभ पर ग्रे बाजार से संकेत क्या हैं

आईपीओ लिस्टिंगआईपीओ लिस्टिंग: मौजूदा सप्ताह आईपीओ के लिहाज से एक धमाका होने वाला है। अगले 3 दिनों में 4 आईपीओ की सूची शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने वाली है।

आईपीओ लिस्टिंग: मौजूदा सप्ताह आईपीओ के लिहाज से एक धमाका होने वाला है। अगले 3 दिनों में 4 आईपीओ की सूची शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने वाली है। इन 4 में लक्ष्मी आर्गानिक्स, अनुपम रसायण, शिल्पकार स्वचालन और कल्याण ज्वैलर्स शामिल हैं, जो बाजार में प्रवेश करने जा रहे हैं। पिछले हफ्ते उनके मुद्दे बंद हो गए। इन मुद्दों में से कुछ को निवेशकों से मजबूत प्रतिक्रिया मिली है। वहीं, इस साल आईपीओ मार्केट के बेहतर प्रदर्शन के बावजूद निवेशक लिस्टिंग से फायदा उठा रहे हैं। आपको बता दें कि इस साल अब तक 16 आईपीओ लॉन्च किए गए हैं। वहीं, बारबेक्यू नेशन का आईपीओ भी खुलने जा रहा है।

कब किस इश्यू के लिए लिस्टिंग हुई

रासायनिक कंपनी अनुपम केमिकल्स का मुद्दा 24 मार्च को सूचीबद्ध किया जाएगा। वहीं, शिल्पकार ऑटोमेशन और लक्ष्मी आर्गानिक्स की लिस्टिंग 25 मार्च को शेयर बाजार में होगी। 26 मार्च को कल्याण ज्वैलर्स को सूचीबद्ध किया जाएगा।

ग्रे मार्केट से क्या संकेत मिलते हैं

अनुपम केमिकल्स: 16% प्रीमियम

ग्रे मार्केट में अनुपम केम का शेयर 85-90 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। अनुपम केमिकल्स ने आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 553-555 रुपये प्रति शेयर तय किया है। यानी स्टॉक 15 से 16 फीसदी के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। अनुपम रासयन आईपीओ से प्राप्त राशि का उपयोग मुख्य रूप से ऋण भुगतान में किया जाएगा।

अनुपम रसायन ने 1984 में काम करना शुरू किया। कंपनी विशेष रसायन बनाती है। अनुपम के गुजरात में 6 बहुउद्देश्यीय विनिर्माण संयंत्र हैं। उनकी कुल क्षमता लगभग 23,396 मीट्रिक टन है। कंपनी मुख्य रूप से एग्रोकेमिकल, पर्सनल केयर और फार्मास्युटिकल सेक्टर्स के लिए उत्पाद तैयार करती है। वित्त वर्ष 2019-20 में इन खंडों का राजस्व 95 प्रतिशत से अधिक था। इसके ग्राहकों में सिनजेंटा एशिया पैसिफिक, सुमितोमो केमिकल कंपनी और यूपीएल लिमिटेड शामिल हैं।

शिल्पकार स्वचालन: 3% प्रीमियम

शिल्पकार ऑटोमेशन का शेयर ग्रे मार्केट में 35-40 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। शिल्पकार ऑटोमेशन ने आईपीओ के लिए मूल्य प्रति शेयर 1488-1490 रुपये प्रति शेयर तय किया है। यानी स्टॉक 3 प्रतिशत के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। कंपनी इस आईपीओ के ताजा इश्यू से मिले पैसे का इस्तेमाल कर्ज चुकाने में करेगी।

शिल्पकार ऑटोमेशन लिमिटेड 1986 में शुरू किया गया था। कंपनी प्रमुख इंजीनियरिंग संगठन है, जो कई इंजीनियरिंग उत्पादों के डिजाइन, विकास और विनिर्माण में लगी हुई है। यह ट्रैक्टर खंड में सिलेंडर ब्लॉक के खनन में अग्रणी कंपनी है। कंपनी की 7 शहरों में 12 उत्पादन इकाइयाँ हैं।

डेमलर इंडिया, टाटा मोटर्स, टाटा कमिंस, महिंद्रा एंड महिंद्रा, सिम्पसन एंड कंपनी, टीएएफई मोटर्स और ट्रैक्टर, एस्कॉर्ट्स, अशोक लीलैंड, पर्किन्स, मित्सुबिशी हेवी इंडस्ट्रीज, टीवीएस मोटर, रॉयल एनफील्ड, जॉन डीरे और जेसीबी इंडिया शामिल हैं।

लक्ष्मी ऑर्गेनिक्स: 54% प्रीमियम

लक्ष्मी आर्गानिक्स का स्टॉक ग्रे मार्केट में 60-70 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। लक्ष्मी आर्गनिक्स ने आईपीओ के लिए 129-130 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड तय किया है। यानी यह शेयर 54 प्रतिशत के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। कंपनी इस आईपीओ के ताजा इश्यू से मिले पैसे का इस्तेमाल कर्ज चुकाने में करेगी। लक्ष्मी ऑर्गेनिक्स द्वारा इस मुद्दे से प्राप्त धनराशि का उपयोग ऋण का भुगतान करने और एक प्रवाहनीय रासायनिक संयंत्र बनाने के लिए किया जाएगा। 2012 में, अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम ने कंपनी की 10.05 प्रतिशत इक्विटी हिस्सेदारी 82 करोड़ रुपये में खरीदी।

30 प्रतिशत बाजार हिस्सेदारी के साथ लक्ष्मी ऑर्गेनिक्स देश का सबसे बड़ा एथिल एसीटेट उत्पादक है। कंपनी डेरिवेटिव डेरिवेटिव के बाजार में भी एक अग्रिम खिलाड़ी है। कंपनी के उत्पाद पोर्टफोलियो में काफी अधिक विविधता है। दुनिया के 30 देशों में कंपनी की पहुंच है। इसमें चीन, नीदरलैंड, रूस, सिंगापुर, संयुक्त अरब अमीरात, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल हैं। इसके मुख्य ग्राहकों में अलेम्बिक फार्मा, डॉ। रेड्डीज लैब्स, हेटेरो लैब्स, लौरस लैब्स, मैकलॉड फार्मा, माइलान लैब्स, यूनाइटेड फॉस्फोरस जैसी दिग्गज कंपनियां शामिल हैं।

कल्याण ज्वैलर्स: 2% प्रीमियम

कल्याण ज्वैलर्स का स्टॉक ग्रे मार्केट में 1-2 रुपये के प्रीमियम पर कारोबार कर रहा है। कल्याण ज्वैलर्स ने आईपीओ के लिए 86-87 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड तय किया है। यही है, स्टॉक ग्रे मार्केट में फ्लैट कारोबार कर रहा है। कल्याण ज्वैलर्स से पहले, पीसी ज्वैलर्स को बाजार में सूचीबद्ध किया गया था। वारबर्ग पिंकस के पास इस कंपनी में पैसा है।

कंपनी अगले दो साल के लिए इश्यू से जुटाए गए फंड का इस्तेमाल करेगी। 30 जून 2020 तक, देश के 21 राज्यों में कल्याण ज्वैलर्स के 107 शोरूम थे। इसके अलावा कंपनी के विदेश में भी 30 शोरूम हैं। कंपनी के पास भारत के साथ-साथ विदेशों में भी शोरूम का एक मजबूत नेटवर्क है। उत्पाद पोर्टफोलियो में विविधता है। ग्राहक आधार मजबूत है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और वित्तीय एक्सप्रेस पर बहुत अधिक अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: