इस साल लग सकता है आईपीओ का शतक

पूंजी जुटाने के लिए प्राथमिक बाजार में प्रवेश करने वाली कंपनियों की संख्या दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। अगस्त के पहले 20 दिनों में 23 कंपनियों ने आईपीओ के लिए दस्तावेज दाखिल किए हैं। ये कंपनियां 40 हजार करोड़ जुटाने जा रही हैं। इनमें से आठ कंपनियां पहले ही 18,200 करोड़ रुपये जुटा चुकी हैं। इनमें से कई कंपनियां स्टार्टअप हैं। वह फिनटेक, ई-कॉमर्स, ट्रैवल और सास (सॉफ़्टवेयर-एज़-ए-सर्विस) सेगमेंट में काम कर रही हैं।

अब तक 40 लिस्टिंग, 70 हजार करोड़ जुटाए

अब तक 40 नई लिस्टिंग हो चुकी है और इसमें से 70 हजार करोड़ रुपये जुटाए जा चुके हैं। खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी बहुत अधिक रही है और कई आईपीओ को 100 गुना से अधिक सब्स्क्राइब किया गया है। कई ब्रोकरेज कंपनियों का कहना है कि इस साल 100 कंपनियां आईपीओ लेकर आ सकती हैं। आईपीओ का बाजार इतना गर्म है कि आरबीआई ने अपने बुलेटिन में कहा कि 2021 देश के लिए आईपीओ का साल हो सकता है।

40 महीने के पीक पर पी-नोट्स का निवेश, विदेशी निवेशकों ने भारतीय बाजार पर बरसाई दौलत

स्टार्ट-अप कंपनियां ला रही हैं आईपीओ

जिन कंपनियों ने अगस्त में आईपीओ के लिए दस्तावेज दाखिल किए हैं। इनमें दिल्ली स्थित पीबी फिनटेक भी शामिल है। यह कंपनी बीमा वितरक पॉलिसीबाजार की प्रमोटर है। कंपनी 6000 करोड़ रुपये का आईपीओ लाने जा रही है। पुणे स्थित कंपनी एमक्योर फार्मा 5000 करोड़ रुपये की कंपनी है। अदाणी समूह की कंपनी अदानी विल्मर समूह 4,500 करोड़ रुपये का आईपीओ लाएगी। मुंबई स्थित ऑनलाइन फैशन और परिधान ब्रांड नायका 4000 करोड़ रुपये का इश्यू जारी करेगा।

See also  इनकम टैक्स: आपको रिश्तेदारों से मिले उपहारों पर टैक्स में छूट कहां से मिलेगी, आपको आयकर कहां देना होगा

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, हमारा अनुसरण इस पर कीजिये ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।