भारत में कोविड-19 वैक्सीनभारत में कोविड -19 वैक्सीन: सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक ने अगले 4 महीनों के लिए अपनी उत्पादन योजना केंद्र सरकार को सौंप दी है।

भारत में कोविड-19 वैक्सीन: कई राज्यों द्वारा कोविड-19 के टीकों की कमी की जानकारी देने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक ने अगले 4 महीने के लिए अपनी उत्पादन योजना केंद्र सरकार को सौंप दी है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार योजना में कहा गया है कि सीरम इंस्टीट्यूट अगस्त से हर महीने 10 करोड़ वैक्सीन बनाएगा. वहीं, भारत बायोटेक की योजना अगस्त से हर महीने 7.8 करोड़ वैक्सीन बनाने की है। सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और ड्रग कंट्रोलर ऑफिस ऑफ इंडिया ने दोनों कंपनियों से जून, जुलाई, अगस्त और सितंबर के लिए उनके प्रोडक्शन प्लान के बारे में पूछा था। अब तक देश में वैक्‍सीन की वैसी ही कमी हो सकती है।

कंपनियों ने दी यह जानकारी

भारत बायोटेक ने सरकार को जानकारी दी है कि जुलाई में कोवैक्सिन का उत्पादन 3.32 करोड़ और अगस्त में 7.82 करोड़ होगा। सितंबर में भी यह बरकरार रहेगा। इसी तरह, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने जानकारी दी है कि अगस्त में कोविशील्ड का उत्पादन बढ़कर 100 मिलियन खुराक हो जाएगा और सितंबर में उस स्तर पर बना रहेगा। बता दें कि अगस्त महीने तक रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी का भी भारत में बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है। वहीं, जायडस-कैडिला वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की अनुमति मिलने की स्थिति में यह आम लोगों के लिए भी उपलब्ध होगी। अगर ऐसा होता है तो अगस्त से देश में वैक्सीन की कमी दूर हो सकती है।

READ  Hyundai-Kia ने मिलकर मारुति सुजुकी को पहली बार कार बिक्री में मात दी, यूटिलिटी वाहनों के मामले में आगे

राज्यों में भारी कमी

स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव डॉ. मनदीप भंडारी द्वारा गठित एक अंतर-मंत्रालयी समूह फार्मास्युटिकल विभाग में संयुक्त सचिव रजनीश टिंगल ने अप्रैल में सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक दोनों के उत्पादन केंद्रों का दौरा किया. इस समूह का गठन घरेलू स्तर पर वैक्सीन उत्पादन की क्षमता बढ़ाने की सुविधा के लिए किया गया था। दिल्ली, महाराष्ट्र, कर्नाटक और तेलंगाना सहित कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों ने एंटी-कोरोना वायरस टीकों की खरीद के लिए वैश्विक निविदा का विकल्प चुनने का फैसला किया है क्योंकि बढ़ती मांग के कारण घरेलू आपूर्ति कम हो रही है।

अधिक कंपनियों के पास अपना टीका उपलब्ध हो सकता है

स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक जुलाई-अगस्त तक कई और टीके भी बड़ी मात्रा में उपलब्ध हो जाएंगे। इनमें स्पुतनिक-V सबसे प्रमुख है। रूस ने जून-जुलाई तक भारत को स्पुतनिक-वी की 18 मिलियन खुराक भेजने की घोषणा की है। साथ ही उन्होंने भारत की छह कंपनियों के साथ 85 करोड़ सालाना का प्रोडक्शन एग्रीमेंट भी साइन किया है। माना जा रहा है कि स्पुतनिक-वी जुलाई से इन भारतीय कंपनियों में प्रोडक्शन शुरू कर देगी। इसी तरह, अगले एक-दो महीने में स्पुतनिक-लाइट की सिंगल डोज भी भारत आने की उम्मीद है। इसके अलावा जायडस-कैडिला की कोरोना वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है। कंपनी ने इसके आपातकालीन इस्तेमाल के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से अनुमति मांगी है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर बहुत कुछ अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

READ  दिल्ली में सोमवार से हटेगा लॉकडाउन, केजरीवाल बोले, दिहाड़ी मजदूरों के आधार पर ले रहे हैं फैसले