विजया डायग्नोस्टिक आईपीओ एंकर निवेशकों ने 566 करोड़ रुपये में निवेश किया गोल्डमैन सैक्स सीएलएसए अन्य ने हिस्सेदारी खरीदीविजया डायग्नोस्टिक सेंटर के आईपीओ के तहत कोई नया शेयर जारी नहीं किया जाएगा

विजया डायग्नोस्टिक आईपीओ: दक्षिण भारत की सबसे बड़ी इंटीग्रेटेड डायग्नोस्टिक चेन विजया डायग्नोस्टिक सेंटर लिमिटेड (वीडीसीएल) का आईपीओ आज 1 सितंबर को सब्सक्रिप्शन के लिए खुल गया है। इस आईपीओ के खुलने से पहले कंपनी ने 29 एंकर निवेशकों से 566.12 करोड़ रुपये जुटाए हैं। कंपनी ने इन निवेशकों को 531 रुपये की कीमत पर 1,06,61,418 शेयर आवंटित किए हैं। एंकर निवेशकों में गोल्डमैन सॉक्स, सीएलएसए, फिडेलिटी इंटरनेशनल और अबू धाबी निवेश प्राधिकरण शामिल हैं। 1894 करोड़ रुपये का यह आईपीओ सब्सक्रिप्शन के लिए 3 सितंबर तक खुला है और इसके लिए 522-531 रुपये प्रति शेयर का प्राइस बैंड रखा गया है। इस आईपीओ को सब्सक्राइब करने को लेकर ब्रोकरेज फर्मों की मिली-जुली राय है।

च्वाइस ब्रोकिंग: बचें

  • VDCL की डायग्नोस्टिक और रेडियोलॉजी दोनों सेगमेंट में मौजूदगी है लेकिन इसके पीयर्स केवल डायग्नोस्टिक बिजनेस में हैं।
  • कंपनी की अखिल भारतीय उपस्थिति नहीं है और आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में इसका लगभग 95 प्रतिशत कारोबार है, जबकि पियर्स की कई क्षेत्रों में उपस्थिति है।
  • VDCL के पास अपने स्वयं के पियर्स की तुलना में अधिकतम संख्या में वॉक-इन ग्राहक हैं, यानी बिना प्री-बुकिंग के।
  • बेहतर नकदी प्रवाह के साथ डायग्नोस्टिक्स क्षेत्र में मजबूत विकास क्षमता है। हालांकि, इसके बावजूद स्वास्थ्य देखभाल की बढ़ती लागत के कारण इस क्षेत्र के मुनाफे पर दबाव बढ़ गया है।
  • ऊपरी कीमत बैंड में 531 रुपये पर, विजया डायग्नोस्टिक्स का पी/ई 47x है जो पियर्स औसत के समान है। इससे कंपनी के आईपीओ की पूरी कीमत तय होने के संकेत मिल रहे हैं। ऐसे में इसमें निवेश से ‘बच’ जाना चाहिए।
See also  Microsoft सरफेस लैपटॉप 4 इंडिया लॉन्च: कीमत रुपये से शुरू। 1,02,999; 19 घंटे तक की बैटरी लाइफ, जानें स्पेसिफिकेशंस

शेयर बाजार में बढ़ती दिलचस्पी के बीच डीमैट अकाउंट की सुरक्षा पर भी ध्यान देना जरूरी, फ्रॉड से बचने के लिए रखें इन 8 बातों का ध्यान

आईआईएफएल सिक्योरिटीज: अभी सब्सक्राइब करें

  • वित्त वर्ष २०११ के ईपीएस (प्रति शेयर आय) के आधार पर, कंपनी ६४.३ के पी/ई पर सूचीबद्ध हो सकती है, जबकि उद्योग का औसत पी/ई ९०.८x है।
  • वित्त वर्ष 2019 से वित्त वर्ष 2021 के बीच, कंपनी का परिचालन राजस्व 13.5 प्रतिशत, EBITDA 23.9 प्रतिशत और PAT (कर के बाद लाभ यानी शुद्ध लाभ) 35.5 प्रतिशत की CAGAR (यौगिक वार्षिक वृद्धि दर) से बढ़ा।
  • कंपनी का ROE (रिटर्न ऑन इक्विटी) और ROCE (रिटर्न ऑन कैपिटल एम्प्लॉयड) वित्त वर्ष २०११ में ४२ प्रतिशत था।
  • हेल्थकेयर इंडस्ट्री में ग्रोथ की अच्छी संभावनाएं हैं। विजया डायग्नोस्टिक्स एक कर्ज मुक्त कंपनी है जो अधिग्रहण और विस्तार योजनाओं पर काम कर रही है।
  • निवेशकों को आईपीओ में लंबी अवधि के लिए निवेश करना चाहिए।

रिलायंस सिक्योरिटीज: लंबी अवधि के नजरिए से सदस्यता लें

  • वित्त वर्ष २०११ की आय के आधार पर, आईपीओ का मूल्य ६४ गुना है जो कि मेट्रोपोलिस और डॉ लाल पाथलैब की तुलना में १५-४० प्रतिशत की छूट है। हालांकि वित्त वर्ष 2022 की अनुमानित कमाई के आधार पर इसका मूल्यांकन 41 गुना है जो उचित लगता है।
  • हालांकि, KRSNAA डायग्नोस्टिक्स की कमजोर लिस्टिंग को देखते हुए, निवेशकों को विजया डायग्नोस्टिक्स की लिस्टिंग से किसी महत्वपूर्ण लाभ की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। KRSNAA डायग्नोस्टिक्स के आईपीओ का मूल्यांकन वित्त वर्ष २०११ की आय के आधार पर १६ गुना था।
  • हालांकि, बेहतर कैश फ्लो, बैलेंस शीट, रिटर्न रेशियो के अलावा हेल्थकेयर इंडस्ट्री में बेहतर ग्रोथ की संभावना के चलते निवेशक लंबी अवधि के लिए इसमें निवेश कर सकते हैं।
See also  जेईई मेन 2021 परीक्षा: जेईई-मेन का चौथा सत्र स्थगित, अब इस तारीख को होगा

भारत Q1FY22 GDP: अप्रैल-जून तिमाही में देश की जीडीपी में 20.1% की वृद्धि, पिछले साल की आश्चर्यजनक नकारात्मक वृद्धि

विजया डायग्नोस्टिक सेंटर आईपीओ विवरण

  • विजया डायग्नोस्टिक सेंटर के आईपीओ के तहत कोई नया शेयर जारी नहीं किया जाएगा और आईपीओ के जरिए ऑफर फॉर सेल (ओएफएस) के तहत 3.56 करोड़ शेयर जारी किए जाएंगे।
  • 1895.04 करोड़ रुपये के इस आईपीओ के तहत 1 रुपये अंकित मूल्य वाले शेयरों का प्राइस बैंड 522-531 रुपये प्रति शेयर रखा गया है।
  • इश्यू के लिए लॉट साइज 28 शेयरों के लिए रखा गया है यानी निवेशकों को प्राइस बैंड की ऊपरी कीमत के हिसाब से कम से कम 14868 रुपये का निवेश करना होगा।
  • इस आईपीओ के शेयरों का आवंटन 8 सितंबर को अंतिम हो सकता है और इसके शेयरों को 14 सितंबर को बाजार में सूचीबद्ध किया जा सकता है।

फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट्स रिजर्व का 8.15% शेयर करते हैं

फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट को एंकर निवेशकों को आवंटित शेयरों की अधिकतम संख्या मिली है। फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट ट्रस्ट को 8.68 लाख शेयर आवंटित किए गए हैं, जो एंकर निवेशकों के शेयर का 8.15 फीसदी है। गोल्डमैन सॉक्स सिंगापुर को एंकर निवेशकों की हिस्सेदारी का 5.28 फीसदी या 5.63 लाख शेयर आवंटित किए गए हैं, जबकि अबू धाबी निवेश प्राधिकरण ने 23.89 करोड़ रुपये में 4.5 लाख शेयर जारी किए हैं। डीएसपी हेल्थकेयर ने कंपनी के 4.68 लाख शेयर खरीदे हैं। घरेलू निवेशकों की बात करें तो इसमें एसबीआई, एडलवाइस, एक्सिस म्यूचुअल फंड, निप्पॉन लाइफ, कोटक महिंद्रा और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल शामिल हैं।
(अनुच्छेद: क्षितिज भार्गव)

(कहानी में दी गई स्टॉक सिफारिशें संबंधित शोध विश्लेषकों और ब्रोकरेज फर्मों की हैं। फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेती है। पूंजी बाजार में निवेश जोखिम के अधीन है। कृपया निवेश करने से पहले अपने सलाहकार से परामर्श लें।)

See also  भारत में लॉन्च हुई 'मेड इन इंडिया' जीप रैंगलर, प्रीमियम SUV की कीमत 53.9 लाख से शुरू

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, हमारा अनुसरण इस पर कीजिये ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।