निवेश युक्तियाँ: ग्लोबल ब्रोकरेज और रिसर्च फर्म यूबीएस ने रिलायंस इंडस्ट्रीज पर अपनी सिफारिशों को अपग्रेड किया है। ब्रोकरेज फर्म ने इस शेयर पर अपनी राय ‘न्यूट्रल’ से बदलकर ‘खरीदें’ कर ली है। यूबीएस के विश्लेषकों की रिपोर्ट में कहा गया है कि मैक्रोइकॉनॉमिक मोर्चे पर मंदी के बाद और ऊर्जा चक्रीयता के कारण, रिलायंस इंडस्ट्रीज अब अपने तीन खंडों – एनर्जी, कंज्यूमर रिटेल और जियो के विकास के चरण में प्रवेश कर रही है। पहली तिमाही के नतीजे आने से पहले ही रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर गिर रहे हैं और अब तक 2.8 फीसदी गिरकर 2,050 पर आ चुके हैं। यह शेयर निफ्टी-50 बेंचमार्क के नीचे प्रदर्शन कर रहा है। इस साल अब तक ऐसा ही हुआ है।

यूबीएस का मानना ​​है कि तेल, गैस सहित ऊर्जा की बढ़ती मांग, ई-रिटेल और डिजिटल प्लेटफॉर्म पर इसकी बढ़ती उपस्थिति, नए स्टोर खोलने और जियोफोन के लॉन्च के कारण, अन्य मोबाइल नेटवर्क कंपनियों की तुलना में प्रतिस्पर्धी टैरिफ के कारण, रिलायंस उद्योगों के कारोबार में काफी गति आएगी।

यूबीएस ने रिलायंस के शेयरों का बेस टारगेट प्राइस 2500 रुपये रखा है। बुलिश मार्केट में टारगेट प्राइस 3150 रुपये और बेयर मार्केट में 1800 रुपये रखा गया है।

ऑयल टू केमिकल (O2C) कारोबार में सुधार होगा

यूबीएस का मानना ​​है कि वित्त वर्ष 2021 से 2024 के दौरान रिलायंस की ऑयल टू केमिकल (ओ2सी) आय बढ़ेगी क्योंकि इसका क्षेत्रीय रिफाइनिंग मार्जिन रिकवरी की पूरी संभावना दिखाता है। पेट्रोकेमिकल कारोबार में लाभ को भी सहयोग मिलेगा। तेल से रसायन (O2C) कारोबार के मौजूदा मूल्यांकन में गिरावट की संभावना कम है क्योंकि इसके मूल सिद्धांतों में सुधार होता दिख रहा है। साथ ही एक बड़ी हिस्सेदारी सऊदी अरामको को बेची जानी है। इससे रिलायंस के 10 अरब डॉलर के निवेश को नई ऊर्जा मिलेगी।

See also  निफ्टी माइक्रोकैप 250 इंडेक्स क्या है? खुदरा निवेशक के लिए कितना उपयोगी है

रोलेक्स रिंग्स आईपीओ: रोलेक्स रिंग्स आईपीओ को सब्सक्राइब करने का आज आखिरी मौका, 16 शेयरों में लग सकती है बोली

Jio में भी दिख रही ग्रोथ

यूबीएस का मानना ​​है कि जियो फोन का अगला लॉन्च, अपने प्रतिस्पर्धियों की तुलना में स्पेक्ट्रम में मजबूत उपस्थिति, ग्राहकों के लिए आकर्षक टैरिफ प्लान, जियो को विकास देगा। फर्म का कहना है कि Jio की प्रति सब्सक्राइबर कमाई यानी ARPU भी 2022 और 2025 के बीच आठ से दस प्रतिशत तक बढ़ जाएगी। Jio की ओर से $50 यानी 3750 रुपये में 5G स्मार्टफोन (Jio 5G Smartphone) की लॉन्चिंग गेम चेंजर साबित हो सकती है।

खुदरा कारोबार का राजस्व होगा तिगुना?

फ्यूचर रिटेल के साथ एकीकरण की कमी के कारण रिलायंस रिटेल की कमाई प्रभावित हुई है, लेकिन यूबीएस का कहना है कि अगले तीन से पांच वर्षों में इसका राजस्व तीन गुना हो सकता है। रिलायंस रिटेल जिस तरह से नए स्टोर खोलने के साथ डिजिटल और ओमनीचैनल प्लेटफॉर्म्स में तेजी दिखा रहा है, उसके ई-कॉमर्स की ग्रोथ की संभावना काफी बढ़ गई है।

(अनुच्छेद: क्षितिज भार्गव)

(कहानी में दी गई स्टॉक सिफारिशें प्रासंगिक शोध विश्लेषक, ब्रोकरेज फर्म या वित्तीय सेवा कंपनी की हैं। फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेती है। पूंजी बाजार में निवेश जोखिम के अधीन हैं। कृपया निवेश करने से पहले अपने सलाहकार से परामर्श लें।)

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

See also  ई-आरयूपीआई क्या है? पीएम मोदी आज करेंगे लॉन्च, जानें कैसे है डिजिटल करेंसी से अलग और इसके फायदे