यूएस स्टॉक्स में निवेश कैसे करेंयूएस स्टॉक्स में निवेश कैसे करें: आप भारत में रहते हुए अपने पोर्टफोलियो में Google, Tesla, Coca Cola और Amazon जैसी बड़ी विदेशी कंपनियों के शेयर भी शामिल कर सकते हैं।

यूएस स्टॉक्स में निवेश कैसे करें: आप भारत में रहते हुए अपने पोर्टफोलियो में Google, Tesla, Coca Cola और Amazon जैसी बड़ी विदेशी कंपनियों के शेयर भी शामिल कर सकते हैं। गूगल के एक शेयर की कीमत फिलहाल 2363 डॉलर यानी करीब 1.73 लाख रुपये है. लेकिन आपको शेयर खरीदने के लिए इतना ज्यादा भुगतान करने की जरूरत नहीं है। इसे सिर्फ 1 डॉलर से शुरू किया जा सकता है। कुछ ऐसे प्लेटफॉर्म हैं जिनसे आप भिन्नात्मक निवेश की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। यानी 100 रुपये लगाकर आप विदेशी कंपनियों के शेयरों के मालिक बन सकते हैं.

वैश्विक बाजार में वृद्धि का लाभ

शेयर बाजार में अगर निवेशक हैं तो इसका दायरा सिर्फ घरेलू बाजार तक नहीं है। विशेषज्ञ अक्सर सलाह देते हैं कि वैश्विक बाजार में भी विकास का फायदा उठाया जाना चाहिए। दरअसल, वैश्विक बाजार का आकार घरेलू बाजार से कई गुना ज्यादा है। वहीं, अमेरिका या यूरोप जैसे बड़े बाजारों में निवेश करना बहुत आसान हो गया है। कुछ प्लेटफॉर्म एक अहम फॉर्मेट के बाद इस तरह की सुविधा दे रहे हैं।

1 डॉलर . पर निवेश शुरू करें

वर्तमान में कुछ ऐसे प्लेटफॉर्म हैं जहां से आप भिन्नात्मक निवेश की सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। कुछ वैश्विक ब्रोकरेज हाउस आंशिक निवेश की पेशकश करते हैं। इससे आप कम से कम $1 के साथ उच्च कीमतों के शेयरों में निवेश शुरू कर सकते हैं। भिन्नात्मक निवेश को आप इस तरह से समझ सकते हैं कि एक शेयर की कीमत 50$ है और आप उसमें 1 डॉलर का निवेश करना चाहते हैं। तो इस हालत में आपको कंपनी के 0.01 शेयर मिलेंगे। वहीं, 10 डॉलर के निवेश पर आपको 0.1 शेयर मिलेंगे।

READ  दिल्ली हाईकोर्ट ने केजरीवाल सरकार को लगाई फटकार, कहा- पूरा सिस्टम फेल, ऑक्सीजन सिलेंडर की चल रही कालाबाजारी

आपको निवेश क्यों करना चाहिए

  • वैश्विक बाजार में निवेश करके जहां आप अपने पोर्टफोलियो में विविधता ला सकते हैं।
  • वहीं, डायवर्सिफिकेशन के जरिए जोखिम को कम किया जा सकता है।
  • वैश्विक शेयरों में निवेश करने से आपको रुपये में गिरावट का फायदा उठाने में भी मदद मिलती है।
  • तीसरा वैश्विक शेयरों में वृद्धि का लाभ है। जैसे 2004 में गूगल का आईपीओ आया था। कंपनी के आईपीओ की कीमत 85 डॉलर थी। अब गूगल का स्टॉक 2363 डॉलर है। यानी अगर किसी ने पैसा लगाया होता तो उसका पैसा आज के मुकाबले 28 गुना होता।

निवेश के लिए क्या करें?

यूएस मार्केट में किसी भी कंपनी में निवेश करने के लिए यूएस रेगुलेटरी सिक्योरिटी एक्सचेंज कमीशन (एसईसी) में रजिस्टर्ड ब्रोकर को डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट खोलना होता है। यह भारत में खोले गए डीमैट खाते के समान है। इस खाते के माध्यम से आप भुगतान कर सकेंगे और अपने शेयरों को डीमैट में ले सकेंगे। लेकिन इस ट्रेडिंग और डीमैट अकाउंट को खोलने से पहले निवेशक के पास अपने क्लाइंट को जानिए (केवाईसी) होता है। यह प्रक्रिया भी भारत में केवाईसी की तरह ही है।

भुगतान डॉलर में है

आरबीआई की लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम के तहत कोई भी भारतीय 2.5 लाख रुपये तक ले सकता है। डॉलर मिलने पर उसे अमेरिकी ब्रोकर के ट्रेडिंग अकाउंट में ट्रांसफर करना होगा। इसके बाद आप इसमें से पसंद का स्टॉक खरीद सकते हैं। अगर आप इस पैसे को भारत वापस लाना चाहते हैं, तो शेयरों को बेचने के लिए डॉलर में भुगतान करना होगा। इसके बाद इसे बैंक में ट्रांसफर किया जा सकता है। जब आप रुपये को डॉलर में या डॉलर को रुपये में बदलते हैं, तो आपको उस समय विनिमय दर के अनुसार पैसा मिलेगा।

READ  कई राज्यों में लागू लॉकडाउन के चलते देश में अप्रैल में यात्री वाहनों की बिक्री में 10 फीसदी की गिरावट आई

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और बहुत कुछ फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।