मानसून का स्टॉकमानसून स्टॉक्स: बारिश अच्छी हो तो खेती अच्छी होती है। जिसके कारण कृषि से जुड़ी कंपनियों को मांग मिलती है।

मानसून स्टॉक: कोविद 19 संकट के बीच में, अर्थव्यवस्था के लिए एक अच्छी खबर है, इस वर्ष भी, मानसून सामान्य रहने की उम्मीद है। भारत मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि दक्षिण पश्चिम मानसून 1 जून को अपने नियत समय पर केरल में दस्तक देगा। बेहतर मानसून के कारण, यह ग्रामीण भारत की आय में वृद्धि कर सकता है। अगर बारिश अच्छी हो, तो खेती अच्छी है। जिसके कारण कृषि से जुड़ी कंपनियों को मांग मिलती है। वहीं, अच्छी उपज के कारण ग्रामीण आय में वृद्धि होती है, जिससे मांग बढ़ती है। FMCG और ऑटो जैसी फर्मों को इससे फायदा होता है। ऐसी स्थिति में, अभी से कुछ शेयरों की निगरानी की जा सकती है, जिसमें विशेषज्ञ या ब्रोकरेज हाउस सकारात्मक हैं।

IMD का अनुमान क्या है

मौसम विभाग के अनुसार, लंबी अवधि में औसत मानसून 96 से 104 प्रतिशत के बीच रह सकता है। आईएमडी के अनुसार, एल नीनो की स्थिति तटस्थ बनी हुई है, इसके आगे बढ़ने की संभावना कम है। इस साल, लंबी अवधि के औसत (एलपीए) के 5 प्रतिशत की त्रुटि के साथ मानसून 98 प्रतिशत हो सकता है। वहीं, मौसम की जानकारी देने वाली एजेंसी स्काईमेट के मुताबिक, इस साल LPA की 103 प्रतिशत बारिश हो सकती है।

बेहतर मानसून: किन सेक्टरों को फायदा

केडिया कमोडिटी के सलाहकार अजय केडिया का कहना है कि अगर मानसून सामान्य रहता है, तो खेती की गतिविधियों में वृद्धि के कारण बीज, उर्वरक, कृषि औजार, पंप आदि की मांग बढ़ जाती है। यदि ग्रामीण आय बढ़ती है, तो सामर्थ्य बढ़ जाती है। इससे एफएमसीजी, टू व्हीलर और कंज्यूमर गुड्स की मांग बढ़ती है। ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल के अनुसार, अच्छे मानसून से दोपहिया, ऑटो, ग्रामीण वित्तपोषण, एग्रोकेमिकल्स और चुनिंदा एफएमसीजी कंपनियों को फायदा होगा।

READ  पहले SIP फिर SWP: 20 साल के लिए 5000 रुपये मासिक निवेश करें, अगले 20 साल में आपको हर महीने 35000 रुपये मिलेंगे।

कोविड -19 की दूसरी लहर कंपनियों के मुनाफे को बिगाड़ देगी! इन 21 बड़े और मिडकैप शेयरों पर नजर रखें

अर्थव्यवस्था में मानसून का योगदान

भारत में, 60 प्रतिशत से अधिक खेती योग्य भूमि ऐसी है, जहाँ उचित सिंचाई नहीं होती है। ऐसे में उन इलाकों में किसान खेती के लिए बारिश पर निर्भर हैं। इस मौसम में चावल, मक्का, दालें, कपास और गन्ना जैसी फसलें मानसून पर निर्भर होती हैं। बेहतर मानसून के कारण पैदावार में वृद्धि के साथ, खाने-पीने की कीमतों पर नियंत्रण बना रहेगा। आपको बता दें कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण देश की अर्थव्यवस्था पर दबाव बढ़ा है।

किन शेयरों पर नजर रखें

कोरोमंडल इंटरनेशनल

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने कोरोमंडल इंटरनेशनल में निवेश की सिफारिश करते हुए लक्ष्य 1030 रुपये तय किया है। मौजूदा कीमत 730 रुपए के लिहाज से शेयर में 41 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। कोरोमंडल अंतरराष्ट्रीय उर्वरक व्यवसाय में है। कंपनी कीटनाशकों और विशेष पोषक तत्वों का उत्पादन भी करती है। कंपनी ग्रामीण खुदरा व्यापार में भी है। अच्छी बारिश से कृषि में उर्वरक की मांग बढ़ेगी, जिससे कंपनी को लाभ होगा।

डेबर इंडिया

ब्रोकरेज हाउस शेयरखान ने डॉबर इंडिया में निवेश की सिफारिश करते हुए 675 रुपये का लक्ष्य रखा है। 537 रुपये की वर्तमान कीमत के संदर्भ में, इसे 26 प्रतिशत रिटर्न मिल सकता है। डाबर कई उत्पाद बनाता है जिनकी ग्रामीण क्षेत्रों में अच्छी मांग है। कोविद की दूसरी लहर ने स्वास्थ्य, प्रतिरक्षा और स्वच्छता उत्पादों, विशेष रूप से च्यवनप्राश की मांग को बढ़ा दिया है, जिससे डोबर को काफी लाभ होने की उम्मीद है।

READ  स्टॉक मार्केट न्यूज़ अपडेट: सेंसेक्स में 1200 अंकों की गिरावट और निफ्टी में 370 अंकों के साथ कारोबार शुरू; पीवीआर, एचडीएफसी बैंक और माइंडट्री सहित इन शेयरों पर निवेशकों की नजर रहेगी

हीरो मोटोकॉर्प

ब्रोकरेज हाउस सिटी ने बेहतरीन सलाह देते हुए 4000 रुपए का लक्ष्य रखा है। मौजूदा कीमत 2844 रुपये के लिहाज से शेयर में 40 प्रतिशत का रिटर्न मिल सकता है। कंपनी के चौथे तिमाही के परिणामों का अनुमान लगाया गया है। सामान्य मानसून के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में दो पहिया वाहनों की मांग बढ़ जाती है। ऐसे में हीरो मोटोकॉर्प को अपने अच्छे मार्केट शेयर का फायदा मिलेगा।

(नोट: हमने ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर यहां शेयरों का विवरण दिया है। बाजार के जोखिम को देखते हुए, निवेश करने से पहले विशेषज्ञों की राय लें।)

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर बहुत कुछ अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।