राकेश झुनझुनवाला ने टाइटन में घटाई हिस्सेदारी, अप्रैल-जून में बेचे 384 करोड़ रुपये के शेयर, शेयर में 1 फीसदी की गिरावटपिछले कारोबारी दिन टाइन कंपनी का क्लोजिंग शेयर प्राइस 1711.10 रुपये रहने का अनुमान लगाया जाए तो झुनझुनवाला ने अप्रैल-जून 2021 में 384 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।

दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने लगातार तीसरी तिमाही में टाइटन कंपनी में अपनी हिस्सेदारी घटाई है। हिस्सेदारी कम होने के एक दिन बाद बीएसई पर इंट्राडे ट्रेडिंग के दौरान इसके शेयर की कीमत 1 फीसदी गिर गई और यह 1693.65 रुपये प्रति शेयर पर आ गई। बिग बुल झुनझुनवाला ने चालू वित्त वर्ष, अप्रैल-जून 2021 की पहली तिमाही में इस घड़ी के 22.50 लाख शेयर आभूषण निर्माता को बेचे हैं। हालांकि, उनकी पत्नी रेखा झुनझुनवाला के पास टाइटन में हिस्सेदारी है और कंपनी में 96.40 लाख शेयर हैं, जो 1.09 प्रतिशत हिस्सेदारी के बराबर है। अब जून तिमाही के अंत तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक झुनझुनवाला दंपति के पास टाइटन कंपनी के 4.26 करोड़ इक्विटी शेयर हैं यानी दोनों की कंपनी में 4.8 फीसदी हिस्सेदारी है.
कंपनी द्वारा इस महीने की शुरुआत में जारी जून 2021 तिमाही के बिजनेस अपडेट के मुताबिक टाइटन का कारोबार ठीक हो रहा है और स्टोर और दिन खुल रहे हैं। जून 2021 की तिमाही में कंपनी को बूलियन बिक्री के अलावा राजस्व वृद्धि की बात करें तो इसमें 117 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी, जिसमें से लगभग 50 प्रतिशत राजस्व अप्रैल में, 10 प्रतिशत मई में और 40 प्रतिशत जून में आया था।

एपटेक इनसाइडर ट्रेडिंग मामले में सुलह, राकेश झुनझुनवाला व उनकी पत्नी समेत 10 लोगों ने 37 करोड़ का भुगतान किया

जून के अंत में टाइटन रिकॉर्ड ऊंचाई पर

जून के आखिरी हफ्ते में टाइटन के शेयर की कीमत 1800 रुपये की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गई थी। एक साल में इसकी कीमत 91 फीसदी से ज्यादा बढ़ गई थी। इस महीने की बात करें तो जुलाई में अब तक इसकी कीमतों में 2.6 फीसदी की गिरावट आई है. हालांकि इस साल इसकी कीमतें 8.5 फीसदी चढ़ गई हैं। पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही जनवरी-मार्च 2021 में झुनझुनवाला ने टाइटन के 22.50 लाख शेयर बेचे और अपनी कंपनी में 3.97 फीसदी हिस्सेदारी छोड़ी। अक्टूबर-दिसंबर 2020 की आखिरी तिमाही में उन्होंने अपनी हिस्सेदारी घटाकर 4.23 फीसदी कर ली थी।

READ  समुद्र में सबूत मिटाते हुए गिरफ्तार मेहुल चौकसी, क्या पीएनबी घोटाले के आरोपी भारत लौटेंगे?

Zomato IPO: 9375 करोड़ के आईपीओ की सफलता के बाद बढ़ा सकती है जोमैटो हायरिंग, रोजगार के मौके मिलने की संभावनाएं ज्यादा

एलआईसी समेत बीमा कंपनियों ने घटाई हिस्सेदारी

अगर हम पिछले कारोबारी दिन टाइन कंपनी के 1711.10 रुपये के बंद शेयर मूल्य का अनुमान लगाते हैं, तो झुनझुनवाला ने अप्रैल-जून 2021 में 384 करोड़ रुपये के शेयर बेचे। हालांकि, इस अवधि के दौरान, विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) में 18.10 प्रतिशत की वृद्धि हुई। मार्च 2021 तिमाही में 16.06 करोड़ शेयर) से 18.41 प्रतिशत (16.34 प्रतिशत) हो गई। देश के सबसे बड़े संस्थागत निवेशक एलआईसी ने भी टाइटन कंपनी में अपनी हिस्सेदारी मार्च 2021 की तिमाही के 3.91 फीसदी से बढ़ाकर जून 2021 की तिमाही में 3.96 फीसदी कर ली है। हालांकि, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस ने जून 2021 तिमाही में टाइटन में अपनी हिस्सेदारी 1.09 फीसदी (मार्च 2021 तिमाही) से घटाकर 1.08 फीसदी कर दी। मार्च 2021 की तिमाही में बीमा कंपनियों की टाइटन में 6.14 फीसदी हिस्सेदारी थी, जो जून 2021 तिमाही में घटकर 5.50 फीसदी रह गई। म्यूचुअल फंड ने भी इस दौरान हिस्सेदारी 4.36 फीसदी से घटाकर 4.03 फीसदी कर दी। खुदरा निवेशकों की हिस्सेदारी भी 9.03 फीसदी से घटकर 8.93 फीसदी रह गई।
(अनुच्छेद: सुरभि जैन)

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।