फ्रेंकिन टेम्पलटन को सेबी ने दो साल के लिए कोई भी ऋण योजना शुरू करने से रोक दिया है।

सेबी ने पिछले हफ्ते फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड हाउस को अपनी छह ऋण योजनाओं के निवेशकों को 512 करोड़ रुपये प्रबंधन और सलाहकार शुल्क वापस करने का आदेश दिया था। साथ ही उस पर 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया। लेकिन सेबी के इस कदम का उसकी अन्य योजनाओं पर तत्काल असर नहीं हो सकता है। हालांकि फंड हाउस के कर्मचारियों के खिलाफ जांच पर जनता की नजर बनी हुई है। च्वाइस ब्रोकिंग के अध्यक्ष अजय केजरीवाल ने फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन को बताया कि सेबी फ्रैंकलिन टेम्पलटन के कुछ कर्मचारियों की जांच कर रहा है। अगर सेबी को इनमें कोई खामी नजर आती है तो बड़ा असर पड़ सकता है। सेबी ने फ्रैंकलिन टेम्पलटन एएमसी को दो साल के लिए कोई भी ऋण योजना शुरू करने से रोक दिया है। पिछले साल अपनी छह ऋण योजनाओं को बंद करने के लिए कंपनी पर 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

दिवालियेपन की कोई संभावना नहीं

कैपिटल माइंड के संस्थापक दीपक शेनॉय का कहना है कि अभी तक इस मामले में फ्रैंकलिन टेम्पलटन के रुख का पता नहीं चल पाया है। फंड हाउस के पास पैसा है इसलिए यह दिवालिया नहीं होगा। सवाल यह है कि फंड हाउस निवेशकों को पैसा देगा या नहीं। यही असली सवाल है। विश्लेषकों का कहना है कि फ्रैंकलिन टेम्पलटन की मूल कंपनी बहुत मजबूत है और उसे भारत में दो दशकों से अधिक का व्यावसायिक अनुभव है। इसके पास पर्याप्त धन है, इसलिए सेबी की कार्रवाई के बावजूद इसके वर्तमान भारतीय संचालन प्रभावित नहीं होंगे। फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने भारत में 1996 में कारोबार शुरू किया था। इसका मौजूदा एयूएम 80 हजार करोड़ रुपये है। वर्तमान में इसके पास 73 फंड हैं।

READ  SBI सैलरी अकाउंट: सैलरी अकाउंट पर 30 लाख रुपये तक का इंश्योरेंस, होम लोन पर भी बड़ी राहत

DHFL के शेयर होंगे डी-लिस्टेड, अब कंपनी पिरामल कैपिटल के हाथों में जाएगी

सेबी ने उठाया सख्त कदम

सेबी ने अपने आदेश में फ्रैंकलिन टेम्पलटन के एशिया-प्रशांत क्षेत्र के पूर्व प्रमुख विवेक कडवा और उनकी पत्नी रूपा कडवा को एक साल के लिए प्रतिभूति बाजार में व्यापार करने से प्रतिबंधित कर दिया है। सेबी ने दंपति पर कुल 7 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है। दोनों पर आरोप है कि उनके पास कुछ बेहद संवेदनशील जानकारी थी, इससे पहले उन्होंने फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की 30.70 करोड़ रुपये की इकाइयों को भुनाया था।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।