उच्च ब्याज दर के साथ पीपीएफ खाते के कई फायदे हैं।

कर लाभ, ब्याज और सेवानिवृत्ति योजना के मामले में पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फंड) सबसे पसंदीदा निवेश है। सॉवरेन गारंटी और मौजूदा एफडी दर से अधिक ब्याज दरों के कारण यह हमेशा निवेशकों के बीच आकर्षण रहा है। हालांकि पीपीएफ
ईईई (छूट, छूट, छूट) श्रेणी में आता है लेकिन टैक्स सेविंग इंस्ट्रूमेंट्स में इसकी लॉक-इन अवधि सबसे ज्यादा है।

पीपीएफ खाता खुलते ही मिलना शुरू हो जाता है लोन

पीपीएफ में 15 साल की लॉक-इन अवधि होती है, लेकिन आप इसके बजाय ऋण ले सकते हैं और आंशिक निकासी कर सकते हैं। पीपीएफ खाता खोलने के 3 साल बाद ही लोन मिलता है। कुछ राशि खाता खोलने के 6 साल बाद भी निकाली जा सकती है। 15 साल के शुरुआती निवेश के बाद इसमें और 5 साल के लिए निवेश किया जा सकता है। आगे खाते के विस्तार पर कोई प्रतिबंध नहीं है। आप बिना निवेश के भी खाते का विस्तार कर सकते हैं।

क्या नॉमिनी पीपीएफ खाताधारक की मृत्यु के बाद भी योगदान जारी रख सकता है?

डेलॉयट इंडिया के पार्टनर सुधाकर सेथुरमन का कहना है कि पीपीएफ खाताधारक की मृत्यु के बाद नॉमिनी इस खाते को जारी नहीं रख सकता है। उसे फॉर्म जी भरकर पैसे निकालने होते हैं। अगर कोई नॉमिनी नहीं है तो उस पर कानूनी वारिस का अधिकार होगा। हालांकि, एक लाख रुपये से कम की राशि के लिए उत्तराधिकार प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है।

म्यूचुअल फंड निवेश: म्यूचुअल फंड में निवेश करने से पहले जान लें ये 5 अहम बातें, होंगे फायदे में

READ  अब आप सीधे खरीद सकेंगे सरकारी प्रतिभूतियां, आरबीआई का रिटेल डायरेक्ट गिल्ट अकाउंट मुहैया कराएगा यह सुविधा

क्या नॉमिनी को लॉक-इन अवधि के कारण पैसे के लिए इंतजार करना होगा?

अगर खाताधारक की पीपीएफ खाता खोलने के पांच साल के भीतर मृत्यु हो जाती है। इसलिए नॉमिनी को पैसा पाने के लिए दस साल और इंतजार नहीं करना पड़ेगा। फॉर्म जी जमा करने और संबंधित कार्यालयों के लिए सफल सत्यापन के बाद, राशि नामांकित व्यक्ति के खाते में जमा की जाएगी। जिस महीने के लिए खाताधारक ने इसमें पैसा जमा किया है, उस महीने के आखिरी महीने तक ब्याज मिलता रहेगा। इस पीपीएफ खाते में नॉमिनी पैसा जमा नहीं कर सकता है।

(अनुच्छेद: अमिताभ चक्रवर्ती)

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।