स्टील की कीमतों में तेज बढ़ोतरी : भारत समेत दुनिया भर में स्टील की कीमतों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। कोरोना संक्रमण के दूसरे दौर के बाद आर्थिक गतिविधियों की गति ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में स्टील की कीमत में भारी वृद्धि की है। भारतीय स्टील कंपनियों के लिए मुनाफा कमाने का यह अच्छा मौका हो सकता है क्योंकि चीन ने अपने स्टील उद्योग के निर्यात को दी गई छूट को खत्म कर दिया है। चीन में लौह अयस्क की कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं और इस वजह से स्टील की कीमत बढ़ रही है।

चीन भी अपने घरेलू निर्माताओं को महंगे स्टील से बचाने के लिए निर्यात में कटौती करना चाहता है। इसके साथ ही वह 2060 तक कार्बन न्यूट्रैलिटी के लक्ष्य को हासिल करना चाहते हैं, इसलिए वह इस्पात उत्पादन और उसके निर्यात की गति पर अंकुश लगाना चाहते हैं। हाल ही में चीन ने आयात शुल्क भी कम किया है ताकि बाहर से ज्यादा स्टील आ सके। अब तक, चीन दुनिया के स्टील बाजार में सबसे बड़े खिलाड़ियों में से एक रहा है। लेकिन अपने इस्पात निर्यात को कम करके भारत सहित दुनिया के अन्य देशों की कंपनियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में मुनाफा कमाने का मौका मिल सकता है।

क्या फोर्ड इंडिया बोली लगाएगी भारत को विदाई, जानिए क्यों हुआ ऐसा?

भारत में स्टील के दाम एक साल में दोगुने से ज्यादा

भारत में स्टील की कीमतें पिछले साल की तुलना में लगभग दोगुनी हो गई हैं। जून 2020 में देश में फ्लैट स्टील की कीमत 38 हजार रुपये प्रति टन थी लेकिन जून 2021 तक यह बढ़कर 72,000 रुपये प्रति टन हो गई। लॉन्ग स्टील के दाम करीब डेढ़ गुना बढ़कर 57,900 रुपये प्रति टन हो गए हैं। स्टील के दाम बढ़ने से घरेलू बाजार में वाहनों की कीमतों में करीब नौ फीसदी का इजाफा हुआ है। लेकिन भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी मुनाफा कमाने का मौका है।

READ  दिल्ली में वैक्सीन संकट: भारत बायोटेक ने दिल्ली को टीके की आपूर्ति से इनकार किया, खुराक खत्म होने से 100 केंद्रों पर टीकाकरण बंद

भारतीय स्टील कंपनियां बढ़ाएंगी उत्पादन क्षमता

चीन से स्टील निर्यात की रफ्तार कम होने की संभावना को देखते हुए दुनियाभर के स्टील निर्माताओं ने अपना उत्पादन बढ़ा दिया है. भारत की JSW स्टील ने कहा है कि वह 2030 तक अपनी क्षमता बढ़ाकर 45 मिलियन टन करना चाहती है। मलेशिया, इंडोनेशिया और अन्य दक्षिण पूर्व एशियाई देश भी 60 मिलियन टन के अतिरिक्त उत्पादन का लक्ष्य बना रहे हैं।

भारतीय कंपनियों के लिए लाभ कमाने का अवसर

विश्लेषकों का मानना ​​है कि इस बार चीन से बाहर की स्टील कंपनियों के लिए अच्छा मुनाफा कमाने का मौका है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में स्टील के दाम बहुत तेजी से बढ़े हैं। यदि भारतीय कंपनियां अपने निर्यात में वृद्धि करती हैं, तो वे भारी मुनाफा कमा सकती हैं। यही वजह है कि सेल, टाटा स्टील और जेएसडब्ल्यू स्टील जैसी बड़ी भारतीय स्टील उत्पादक कंपनियों ने अपनी क्षमता बढ़ाने की तैयारी शुरू कर दी है। अमेरिका में बुनियादी ढांचे पर बहुत अधिक खर्च करने की योजना के कारण इस साल अंतरराष्ट्रीय बाजार में स्टील की कीमतों में वृद्धि जारी रहेगी। यूरोपीय बाजार में भी स्टील की मांग अधिक रहेगी। इससे नुकोर कॉर्प, यूएस स्टील कॉर्प, एसएसएबी एबी और आर्सेलर मित्तल एसए जैसी प्रमुख अंतरराष्ट्रीय कंपनियों को फायदा हो सकता है। मुनाफे की इस दौड़ में भारतीय स्टील कंपनियां भी शामिल हो सकती हैं।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

READ  बिना सोचे समझे न लें ईपीएफ खाते से एडवांस निकासी सुविधा का लाभ, इन परिस्थितियों में ही निकालें पैसा