निफ्टी लक्ष्य १७४०० दिसंबर की वर्तमान रैली तक २००४-०७ बुल रन का दोहरावआर्थिक अनिश्चितता और उतार-चढ़ाव में गिरावट के चलते इस साल नवंबर 2020 से लेकर पिछले साल तक स्मॉलकैप और मिडकैप शेयर निवेशकों को जोरदार रिटर्न देने वाले हैं.

निफ्टी आउटलुक: निफ्टी इस हफ्ते लगातार चार कारोबारी दिन रिकॉर्ड ऊंचाई पर बंद हुआ है और आज 5 अगस्त को निफ्टी भी इंट्रा डे में 16300 के नए स्तर को पार कर गया। अब बात करें इस साल के अंत की तो एनएसई निफ्टी 50 दिसंबर 2021 में 17400 के स्तर पर पहुंच सकता है। घरेलू ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक उतार-चढ़ाव तेजी से कम हो रहा है, जो निफ्टी में तेजी के मजबूत संकेत दे रहा है। जुलाई 2021 में, भारत VIX (निकट अवधि में अपेक्षित अस्थिरता का संकेत) 13 तक गिर गया, जो 22 के दीर्घकालिक औसत से काफी कम है। इसके कारण, बाजार में सीमित गिरावट के साथ और तेजी के संकेत हैं।

घरेलू शोध फर्म एक्सिस सिक्योरिटीज के अनुसार, अगर VIX (अस्थिरता सूचकांक) में और गिरावट आती है, तो इससे बाजार में और तेजी आएगी। आर्थिक अनिश्चितता और उतार-चढ़ाव में गिरावट के चलते इस साल निवेशकों को नवंबर 2020 से लेकर पिछले साल तक स्मॉलकैप और मिडकैप शेयरों में खरीदारी करने को मजबूर होना पड़ा है. जोरदार रिटर्न मिलने वाला है।

स्टॉक टिप्स: निफ्टी में तेजी के आसार, इन दो शेयरों में करें निवेश, एक महीने में मिल सकता है 11 फीसदी का मुनाफा

निफ्टी में 10 गुना आ चुका है बुल फेज

इससे पहले निफ्टी इंडेक्स में 10 बार बुल फेज आ चुका है। बुल फेज के हर दौर ने 27 महीने की औसत अवधि में 144 फीसदी का रिटर्न दिया है।

  • पहला बुल फेज 1990-1992 में आया जब इसने 22 महीनों में 350 फीसदी का रिटर्न दिया।
  • दूसरा चरण – 1993-1994 – 18 महीने में 104% रिटर्न
  • चरण III – 1997-1998 – 20 महीनों में 17 प्रतिशत प्रतिफल
  • चौथा चरण – 1998-2000 – 15 महीने में 113% रिटर्न
  • पांचवां चरण- २००१-२००४- २८ महीनों में १२७% का रिटर्न
  • छठा चरण- २००४-२००८- ४४ महीनों में ३१४% का रिटर्न
  • सातवां चरण – 2009-2010 – 20 महीनों में 141% रिटर्न
  • आठवां चरण- 2012-2015- 92% रिटर्न
  • नौवां चरण- 2016-2020- 48 महीनों में 72% रिटर्न
  • दसवां चरण – वर्तमान – इस चरण में 16 महीने में 107 प्रतिशत का रिटर्न मिला है।
See also  मध्य प्रदेश, उत्तराखंड और गुजरात ने रद्द की 12वीं की बोर्ड परीक्षा, कई और राज्य जल्द करेंगे फैसला

भारती एयरटेल बनी सेंसेक्स की टॉप गेनर, कमाएं या बने रहें प्रतिष्ठित ब्रोकरेज फर्मों की क्या है राय

लार्जकैप की तुलना में मिडकैप अधिक आकर्षक

वैल्यूएशन के आधार पर लार्जकैप के मुकाबले मिडकैप शेयर ज्यादा आकर्षक लगते हैं. एक घरेलू ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक, मिडकैप 2017 के बुल फेज में लार्जकैप के मुकाबले 45 फीसदी प्रीमियम पर ट्रेड कर रहे थे. एक्सिस सिक्योरिटीज के मुताबिक इस समय आईपीओ की बारिश हो रही है यानी ज्यादा संख्या में आईपीओ इश्यू आ रहे हैं और उन्हें मिल भी रहा है. सफलता। जो लोगों के मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों के प्रति आकर्षण को दर्शाता है. बाजार में Zomato की बंपर लिस्टिंग नेक्स्ट जेनरेशन बिजनेस मॉडल के बारे में निवेशकों की मजबूत जोखिम क्षमता का अंदाजा देती है।
(अनुच्छेद: सुरभि जैन)

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।