नए वित्तीय वर्ष में निवेशकों की चांदी बनाएगी सोना! 10 साल में अप्रैल और अगस्त में बेस्ट

FY22 में गोल्ड आउटलुकगोल्ड आउटलुक: नया वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से शुरू होता है। ऐसी स्थिति में, कई निवेशक अपने पोर्टफोलियो को नए सिरे से बनाने की सोच रहे होंगे।

गोल्ड आउटलुक: नया वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से शुरू हो रहा है। ऐसी स्थिति में, कई निवेशक अपने पोर्टफोलियो को नए सिरे से बनाने की सोच रहे होंगे। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि जब भी Nivea की योजना बना रहे हैं, तो पोर्टफोलियो में सोने का कुछ हिस्सा (10-15%) रखना बेहतर है। सोना हमेशा स्थिर रिटर्न रहा है। लॉन्ग टर्म में गोल्ड रिटर्न की गारंटी होती है। वैसे भी, अगर हम पिछले 10 वर्षों के इतिहास को देखें, तो आने वाले कुछ महीने रिटर्न के लिहाज से सबसे अच्छे रहे हैं। खासकर अप्रैल और अगस्त में सोना सबसे महंगा होता है। इन 10 सालों की बात करें तो अप्रैल से अगस्त तक सोने पर मई में ही कुछ दबाव रहा है।

सोना अपने रिकॉर्ड ऊंचाई से 22% कमजोर है

इस साल सोने की कीमतें कमजोर बनी हुई हैं। अमेरिका में 10 साल की बॉन्ड यील्ड बढ़ने से सोने में गिरावट और बढ़ गई है। बॉन्ड यील्ड 14 महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गई है। सोना रिकॉर्ड ऊंचाई से करीब 22 प्रतिशत सस्ता बिक रहा है। 31 मार्च के कारोबार में एमसीएक्स पर सोना 43900 रुपये प्रति 10 ग्राम पर कारोबार कर रहा है। जबकि पिछले साल अगस्त में सोना 56200 के पार रिकॉर्ड स्तर पर मजबूत हुआ था। यानी करीब 8 महीनों में सोना 12,300 रुपये प्रति 10 ग्राम की छूट पर आ गया है। विशेषज्ञ इस भारी छूट को सोने में नए निवेश के लिए एक अच्छा अवसर मान रहे हैं।

बॉन्ड तेजी से पैदावार करता है, जहां सोने के लिए आकर्षण कम हो गया है। वहीं, शेयर बाजार में तेजी ने भी निवेशकों को सोने से दूर रखा है। रिकॉर्ड ऊंचाई के बाद, कई निवेशकों ने सोने में लाभ कमाया है। कोरोना वायरस के उन्मूलन ने टीकाकरण के कारण सोने की तरह संपत्ति वर्ग के आकर्षण को भी कम कर दिया है। सोने की मांग में कमजोरी भी सोने में गिरावट का कारण रही है।

आने वाले दिनों में सोने में उछाल का इतिहास

अगर हम पिछले 10 सालों के इतिहास को देखें, तो अगले कुछ महीने सोने के लिहाज से बेहतर रहे हैं। अप्रैल, जून, जुलाई और अगस्त में सोने में उछाल का इतिहास रहा है।

अप्रैल से अगस्त: 10 वर्षों में औसत रिटर्न

अप्रैल: 2.38%
मई: (-) 0.16%
जून: १.४५%
जुलाई: १.४ 1.%
अगस्त: 6.59%

(स्रोत: केडिया सलाहकार)

(नोट: जनवरी, फरवरी, अक्टूबर और दिसंबर के औसत रिटर्न भी सकारात्मक रहे हैं, लेकिन यह अप्रैल और अगस्त की तुलना में कमजोर है।)

आगे सोने में तेजी आएगी

केडिया एडवाइजरी के निदेशक अजय केडिया का मानना ​​है कि अगले 6 महीनों में उसने सोने में 52500 / 10g का लक्ष्य दिया है। दुनियाभर में कोरोना वायरस की एक और लहर देखी जा रही है। इसका प्रभाव भारत, अमेरिका और यूरोप के देशों में बहुत अधिक है। यदि यह खतरा बढ़ता है, तो सोने की तरह सुरक्षित आश्रय माना जाने वाला संपत्ति वर्ग के बारे में एक बार फिर आकर्षण बढ़ जाएगा। उनका कहना है कि पिछले कुछ दिनों से इक्विटी मार्केट में भी उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है। यदि कोरोना के मामलों में वृद्धि जारी है, तो यह गिरावट बढ़ सकती है। अमेरिका सहित बड़े देशों में, अर्थव्यवस्था को फिर से पूरी तरह से सामान्य होने में समय लगेगा। इसके अलावा, केंद्रीय बैंकों ने भी सोने में खरीदारी का संकेत दिया है। इसमें सोने को सपोर्ट दिया जाएगा।

(नोट: हमने विशेषज्ञों के साथ बातचीत और ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर यहां जानकारी दी है। बाजार में निवेश जोखिम के अधीन हैं। इसलिए निवेश करने से पहले विशेषज्ञ की राय लें।)

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और वित्तीय एक्सप्रेस पर बहुत अधिक अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: