भारत में पीले कवक का मामला दर्ज किया गयाभारत में सामने आया येलो फंगस केस: देश में ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस ने भी एंट्री दे दी है.

भारत में पीत कवक का मामला दर्ज किया गया: देश में ब्लैक फंगस और व्हाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस ने भी एंट्री दे दी है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच येलो फंगस का पहला मामला दिल्ली से सटे गाजियाबाद में देखने को मिला है. पीली फंगस अब तक मरीजों में पाए जाने वाले ब्लैक एंड व्हाइट फंगस से ज्यादा खतरनाक बताई जा रही है। बता दें कि गाजियाबाद के जिस मरीज में पीला फंगस पाया गया है, उसकी उम्र 34 साल है और वह कोरोना से संक्रमित हो चुका है. इसके साथ ही वह मधुमेह से भी पीड़ित हैं।

लक्षण क्या हैं

पीला कवक एक घातक बीमारी है क्योंकि यह आंतरिक रूप से शुरू होती है और इसलिए यदि आपको कोई लक्षण दिखाई दे तो उपचार शुरू करना महत्वपूर्ण है। पीले कवक के मुख्य लक्षण हैं… ..

  • सुस्ती महसूस करना
  • भूख न लगना या बिल्कुल भी भूख न लगना
  • शरीर के वजन में कमी
  • अगर इस दौरान किसी को घाव हो जाता है तो उसमें से मवाद निकलने लगता है और घाव बहुत धीरे-धीरे भरता है।
  • बहुत से लोगों को आंखों में संक्रमण हो सकता है
  • इस दौरान मरीज की आंखें धंस जाती हैं
  • अंग क्षति तक हो सकती है

पीले कवक का कारण

स्वच्छता बनाए रखने में विफलता कवक का सबसे बड़ा कारण हो सकता है। इसलिए खुद को साफ-सुथरा रखने के अलावा घर को भी साफ रखें। हमारे आस-पास अत्यधिक गंदगी पीले फंगस का मुख्य कारण हो सकती है। इसलिए जरूरी है कि आप अपने घर के आसपास साफ-सफाई रखें, ताकि बैक्टीरिया या फंगस का विकास न हो। घर से पुराने खाद्य पदार्थों को हटा दें, जिससे फंगस का खतरा हो सकता है।

READ  WPI मुद्रास्फीति: थोक महंगाई दर बढ़कर 8 साल के उच्च स्तर पर, WPI मार्च में 7.39% पर पहुंच गई

पीले फंगस से बचाव

अगर आपको पीले फंगस के कोई भी लक्षण दिखाई दें तो इसे नजरअंदाज न करें और डॉक्टर से सलाह लें। आवश्यकतानुसार उपचार लें। कवक के उत्पादन में आर्द्रता को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। घर में अत्यधिक नमी बैक्टीरिया और फंगस के विकास को बढ़ावा दे सकती है। इसलिए कोशिश करें कि हवादार जगह पर रहें। इम्युनिटी मजबूत रखने के उपाय करें, अगर आपकी इम्युनिटी अच्छी है तो इस फंगस से बचा जा सकता है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और बहुत कुछ फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।