देश की एक तिहाई कॉरपोरेट कंपनियों की हालत खराब हो गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 32 फीसदी से ज्यादा कंपनियों की कर्ज चुकाने की क्षमता घट गई है. मार्च के अंत तक 22 फीसदी कंपनियों को अपना कर्ज चुकाने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. लेकिन अब यह संख्या बढ़कर 32 फीसदी से ज्यादा हो गई है.

कई कंपनियों का जीएसटी अनुपालन स्कोर घटा

रूबिक्स डेटा साइंसेज की एक रिपोर्ट के मुताबिक जिन 9,963 कंपनियों पर नजर रखी जा रही है, उनमें 32 फीसदी यानी 3,177 ऐसी कंपनियां हैं, जिनका जीएसटी अनुपालन स्कोर जून तिमाही में कम हुआ है। मार्च तिमाही में 22 फीसदी कंपनियां ऐसी थीं कि उनका जीएसटी अनुपालन स्कोर कम हो गया था। हालांकि 3,149 कंपनियां ऐसी थीं कि उनका जीएसटी अनुपालन स्कोर बढ़ा है। वहीं, 3,673 कंपनियां यानी 36 फीसदी ऐसी हैं कि उनके स्कोर में कोई अंतर नहीं है।

स्टॉक टिप्स: ये 2 शेयर तीन महीने में देंगे 20% मुनाफा, जानिए क्यों इस नामी ब्रोकरेज फर्म ने दी इन्हें ‘BUY’ रेटिंग

पीएफ फाइलिंग अनुपालन स्कोर में गिरावट

जीएसटी अनुपालन स्कोर में कमी का मतलब है कि कंपनी की वित्तीय स्थिति अच्छी नहीं है। रिपोर्ट के मुताबिक पहली तिमाही में कंपनियां हाई रिस्क लेवल पर थीं। यह रिपोर्ट जीएसटी फाइलिंग और प्रोविडेंट फंड फाइलिंग और क्रेडिट रेटिंग के आधार पर तैयार की गई है। 3,667 कंपनियों में से 40 फीसदी ऐसी थीं जिनका पीएफ अनुपालन स्कोर कम था। ऐसी स्थिति कोविड-19 की दो लहरों के कारण भी पैदा हुई है। हालांकि, क्रेडिट रेटिंग में ज्यादा गिरावट नहीं आई है।

See also  राकेश झुनझुनवाला की टॉप होल्डिंग्स में शामिल इस शेयर में लग सकता है 15% का उछाल, जानिए क्या है वजह?

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और बहुत कुछ फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।