फार्मईज़ी थायरोकेयर में 66 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी खरीदेगी।

डिजिटल हेल्थकेयर कंपनी Pharmeasy ने शुक्रवार को डायग्नोस्टिक चेन थायरोकेयर को 4,546 रुपये में खरीदने की घोषणा की। इस सौदे पर फार्मएसी की पैरेंट यूनिकॉर्न एपीआई होल्डिंग्स और थायरोकेयर टेक्नोलॉजीज के चेयरमैन और एमडी ए वेलुमणि ने हस्ताक्षर किए। सौदे के तहत Pharmeasy थायरोकेयर में 66.1 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगी। कंपनी इस हिस्सेदारी को ए. वेलुमणि और उनके सहयोगी से 1,300 रुपये प्रति शेयर की दर से खरीदेगी।

थायरोकेयर में अतिरिक्त 26% हिस्सेदारी के लिए ओपन ऑफर आएगा

डील से जुड़े बयान में कहा गया है कि यह काफी अहम डील है क्योंकि स्टार्टअप ऐसी किसी भी डिजिटल हेल्थकेयर कंपनी में बहुमत हिस्सेदारी खरीद रहा है। एपीआई की सहायक कंपनी फार्मएसी सूचीबद्ध कंपनी थायरोकेयर में अतिरिक्त 26 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने के लिए खुली पेशकश करेगी।

कोविड-19 के इलाज पर खर्च होने वाली राशि पर नहीं लगेगा टैक्स, अनुग्रह राशि में मिलने वाली राशि पर भी होगी छूट

थायरोकेयर के फाउंडर भी खरीदेंगे एपीआई में हिस्सेदारी

एक वेलुमणि कंपनी के मौजूदा और नए निवेशकों की ओर से इक्विटी निवेश के तहत एपीआई में 5 फीसदी से कम हिस्सेदारी भी खरीदेगा। थायरोकेयर में उत्तराधिकार योजना का अभाव डॉ. वेलुमणि द्वारा कंपनी को बेचने का मुख्य कारण हो सकता है। इससे पहले PharmEasy ने Medlife को खरीदा था और उसके बाद यह देश की सबसे बड़ी दवा वितरण कंपनी बन गई। थायरोकेयर का देश भर में नैदानिक ​​केंद्रों का एक नेटवर्क है। इस महीने कंपनी के शेयर की कीमत में करीब 300 रुपये की तेजी आई है। बीएसई पर थायरोकेयर का शेयर शुक्रवार को 6.23 फीसदी की तेजी के साथ 1,448.05 रुपये पर बंद हुआ।

READ  IPO Market: IPO से पहले ही ग्रे मार्केट में श्याम मेटल्स के शेयर 43 फीसदी चढ़े, क्या करें निवेश

हाल ही में, डिजिटल हेल्थकेयर कंपनियों में अधिग्रहण का दौर शुरू हुआ है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने ऑनलाइन फ़ार्मेसी सेगमेंट में प्रवेश करते हुए नेटमेड्स का अधिग्रहण कर लिया है। जबकि फार्मएसी का मेडलाइफ में विलय हो गया है। ई-कॉमर्स सेगमेंट में Tata Group का मुकाबला Flipkart, Amazon और Reliance Retail जैसी दिग्गज कंपनियों से है। भविष्य में भी इस सेक्टर में कई मर्जर और एक्विजिशन डील देखने को मिल सकती है। इस क्षेत्र में कई बड़ी रिटेल कंपनियां कूद सकती हैं।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।