टिप्स होम लोन एलिजबिलटि बढ़ाने के लिए

होम लोन पात्रता कैसे बढ़ाए?

होम लोन एलिजबिलटि एक शब्द है जो यह दर्शाता है कि आपको घर के लिए कितना लोन मिलेगा और आप लोन लेने के योग्य हैं या नहीं।  हर होम लोन की पात्रता की जांच करने के लिए कुछ कारकों पर विचार किया जाता है, जिसमें आवेदक की आयु, आय, रोजगार के प्रकार और संपत्ति, क्रेडिट स्कोर, और कई विषय शामिल हैं।

क्या आप होम लोन लेने के लिए पर्याप्त योग्य हैं? होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले हर लोन अप्लायर के पास इस सवाल का जवाब नहीं होता है। क्रेडिट प्राप्त करना या लोन पास होना कोई आसान काम नहीं है। क्योंकि इसमें चाहे गए लोन अमाउंट की उचित और पूरी समझ के साथ गहन शोध की जरूरत होती है। इसलिए, होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले अपनी पात्रता की जांच करना बहुत जरूरी है।

 आपको यह जानना होगा उन कारकों के बारे में जो आपके होम लोन पाने की योग्यता को बढ़ाने में मदद करते हैं जैसे

  • आपके द्वारा चुकाए गए अच्छे लोन का इतिहास
  • अतीत में आपकी स्थिर वित्तीय स्थिति
  • कोई लोन या क्रेडिट कार्ड का बकाया नहीं
  • 750 से ऊपर क्रेडिट स्कोर
  • वर्तमान की नियमित आय
  • सह-आवेदक के रूप में कामकाजी जीवनसाथी
  • कम क्रेडिट उपयोग का अनुपात
  • आपके उपर आश्रितों की संख्या कम हो

यहां आपके होम लोन एलिजबिलटि बढ़ाने के टिप्स दिए गए हैं:

  1.  लंबे समय का लोन चुने
  2. अपने मौजूदा लोन का भुगतान करें
  3. अपना CIBIL स्कोर सुधारें
  4. आय का दूसरा स्रोत जोड़ें
  5. जॉइन्ट होम लोन के लिए आवेदन करें
  6. चुने गए लोन देने वाले बैंक में खाता खोलें
  7. स्टेप-अप लोन पर विचार करें
  8. घबराहट का प्रदर्शन ना करे

1. लंबे समय का होम लोन चुने 

 जब भी आप लोन की अवधि बढ़ाते हैं, तो आपके होम लोन की पात्रता में वृद्धि होती है क्योंकि यह समान्य बात है कि लोन देने वाले को यह पता चल जाएगा कि आपके पास लोन को वापस चुकाने के लिए बहुत अधिक समय है। ऐसे मे समय पर लोन चुकाने की संभावना बढ़ जाती है। अधिक कार्यकाल वाले लोन उपभोक्ता को इसे चुकाने के लिए अतिरिक्त समय देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप समय पर भुगतान होता है और लोन देने वाले का टेंशन कम हो जाता है। हालांकि आप ऋण की अवधि बढ़ा सकते हैं, लेकिन कोशिश करें और ऐसी स्थिति में आने से बचें, जहां आपको अपने लोन को लंबे समय तक चुकाना पड़े, क्योंकि इससे आपकी उधार लेने की लागत में काफी वृद्धि हो सकती है।

उदाहरण के लिए, यदि आप 20 साल के लिए 9 प्रतिशत पर 50 लाख रुपये का लोन लेते हैं, तो ईएमआई 44,986 रुपये प्रति माह होगी, जिसमें कुल ब्याज 57.96 लाख रुपये देय होगा।  इसी तरह, यदि 25 वर्षों में एक ही लोन लिया जाता है, तो ईएमआई प्रति माह 41,960 रुपये तक गिर जाएगी, लेकिन कुल ब्याज 75.87 लाख रुपये हो जाएगा। इसलिए, यह कुल मिलाकर, 17.91 लाख रुपये महंगा (कुल ब्याज देय) होगा।

2. अपने मौजूदा लोन का भुगतान करें

 नए होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले यदि आपके नाम पर कोई मौजूदा लोन है, तो उसे भुगतान करने का प्रयास करें। मौजूदा लोन को ना चुकाने के कारण, आगे लोन देने वाला बैंक आपकी लोन राशि को कम कर सकता है या इंट्रेस्ट रेट बढ़ा सकता है। बैंक सोच सकता है कि उपभोक्ता पर पहले से ही लोन ईएमआई का बोझ है और अतिरिक्त लोन को मंजूरी देकर उसपर ईएमआई या एक्स्ट्रा भुगतान का भार आ सकता है।  इस मामले में वित्तीय संस्थाएं लोन देने से भी इनकार कर सकते है।

आप होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले सभी मौजूदा ऋणों को पूर्व भुगतान करके केवल अपने लोन टू इंकम अनुपात में सुधार कर सकते हैं। आप अनावश्यक ऋण चुकाने और समय पर पुनर्भुगतान करके अपने CIBIL स्कोर की जांच और सुधार कर सकते हैं।  इसलिए, होम लोन उम्मीदवारों को अपने बैंक से ‘नो-ड्यूज’ प्रमाण पत्र लेकर सभी पिछले लोन खातों को बंद कर देना चाहिए।  इसके बाद, उन्हें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनका CIBIL स्कोर अपडेट हो जाए।

3. अपने CIBIL स्कोर में सुधार करें

 CIBIL स्कोर या क्रेडिट स्कोर आपके लोन पास होने से लेकर लोन राशि तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 750 से ऊपर के क्रेडिट स्कोर को अच्छा माना जाता है जो आपको बैंक के लिए अधिक क्रेडिट योग्य और जोखिम मुक्त उपभोक्ता बनाता है। CIBIL (क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो (इंडिया) लिमिटेड) के अनुसार, ” 750% से अधिक CIBIL स्कोर वाले व्यक्तियों के लिए 79% ऋण या क्रेडिट कार्ड स्वीकृत हैं”। अच्छा CIBIL स्कोर कम होम लोन की ब्याज दरों का लाभ उठाने में मदद कर सकता है। अपने कार्ड की खर्च सीमा का लगभग 20-30 प्रतिशत कम CUR (क्रेडिट उपयोग अनुपात) रखें।

लोन निपटाने में चूक से बचें क्योंकि ये आपके क्रेडिट स्कोर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। एक बार में बहुत सारे क्रेडिट प्रोडक्ट के लिए आवेदन न करें क्योंकि प्रत्येक एप्लिकेशन एक नए क्रेडिट स्कोर की जांच करता है जो आपके स्कोर को कम करता है।

आपकी क्रेडिट लाइन की आयु का आपके क्रेडिट स्कोर पर पाॅजिटिव प्रभाव पड़ता है। इसलिए क्रेडिट कार्ड या लंबी अवधि के लिए कोई भी लोन, आपके समय पर चुकाना क्रेडिट लाइन पर सकारात्मक रूप से देखता है। अपनी क्रेडिट रिपोर्ट में गलतियों की जांच करें जो कभी-कभी आपके कम स्कोर के पीछे का कारण हो सकता है।

4. आय का दूसरा स्रोत जोड़ें

 आप आय के किसी अन्य स्रोत को जोड़कर भी मदद ले सकते है। आय के अन्य स्रोत में किसी तरह के किराये से आय, शॉर्ट टर्म बिजनेस , उपकरण या मशीनरी से किराया आदि शामिल हैं। एक्स्ट्रा इंकम बड़े होम लोन अमाउंट को हासिल करने में मदद करता है, क्योंकि यह बैंक के नजर में आपके वित्तीय स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।

5. सह-आवेदक के रूप में अपने जीवनसाथी का नाम शामिल करें

 अच्छे क्रेडिट स्कोर के साथ कामकाजी पति या पत्नी को जॉइंट होम लोन के लिए सह-आवेदक के रूप में अप्लाइ किया जा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप संबंधित बैंक या एनबीएफसी द्वारा अधिकतम लोन राशि मंजूर हो सकती है। सह-आवेदक पति / पत्नी, परिवार के सदस्य और भाई-बहन हो सकते हैं, जैसा कि तब सह-आवेदक साथ में EMI को चुकाने क्षमता में वृद्धि करता है। कुछ बैंक परिवार के सदस्यों की आय की कुल जोड़ पर विचार करते हैं। इसलिए, नामों को जोड़ने से परिवार की कुल आय में काफी वृद्धि हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप कम ब्याज दरों पर होम लोन मंजूर किया जा सकता है।

 6. चुने हुए बैंक के साथ खाता खोलें जिनसे लोन लेना है

  यदि आप निकट भविष्य में किसी ऋण के लिए आवेदन करते हैं तो प्रो ऐक्टिव बनिए। यदि आपने बैंक फाइनली चुन लिया है और एक वर्ष या उससे पहले आवेदन करने की योजना बना रहे हैं, तो आप किसी भी लोन के लिए आवेदन करने से पहले उसी बैंक खाता खोलकर उस बैंक के साथ संबंध शुरू कर सकते हैं। ऐसा करने पर आपको चुने गए बैंक /संस्था द्वारा आपको प्राथमिकता दी जाएगी।

 7. स्टेप-अप लोन पर विचार करें

 आमतौर पर, होम लोन लंबे समय वाले होते हैं और वेतनभोगी, नौकरी वालों के मामले में रिटायर होने के बाद लोन मिलना मुश्किल होता है। इसलिए, यह उन लोगों के लिए आसान हो सकता है जो अपने 50 के दशक की तुलना में 30 या 40 के दशक में हाई अमाउंट लोन लेते हैं। लेकिन, यहां समस्या यह है कि शुरू में ज्यादातर युवा ईएमआई का भुगतान करने के लिए संघर्ष करते हैं।

स्टेप-अप लोन कम मासिक वेतन वाले लोगों के लिए या उन लोगों के लिए बेहतर विकल्प हैं, जिन्हें अन्य महीने के अन्य खर्चों के कारण हाई ईएमआई चुकाना मुश्किल लगता है। स्टेप-अप लोन के तहत, संबंधित बैंक प्रारंभिक वर्षों में कम ईएमआई पर लोन देते हैं और धीरे-धीरे उन्हें बढ़ाते हैं ताकि बाद के वर्षों में बकाया लोन राशि चुकाने के लिए आवेदक आर्थिक रूप से अधिक सुरक्षित हो जाए।

8. घबराहट ना दिखाए

 होम लोन के लिए आवेदन करने जल्दबाज़ी ना दिखाए । होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले पूरी रिसर्च और समय की आवश्यकता होती है। अपने बजट का अनुमान लगाएं, अपनी आय की गणना करें, कहीं गलती ना रह जाए इसके लिए अपनी CIBIL रिपोर्ट की जांच करें, लोन विकल्पों की तुलना करें। फिक्स्ड या फ्लोटिंग रेट ऑफ इंटरेस्ट चुनें और होम लोन के लिए आवेदन करने से पहले कम से कम एक्स्ट्रा फीस के साथ ध्यान देकर इंट्रेस्ट रेट चुनें।

 होम लोन लेना हमेशा लोगों के जीवन का सबसे कठिन और सबसे बड़ा वित्तीय निर्णय होता है। यहां बताये गये स्टेप्स पर विचार करने के बाद निश्चित रूप से आपको अपने होम लोन की योग्यता बढ़ाने में मदद मिलेगी और आपको मनचाहा घर खरीदने का सपना साकार

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *