प्रॉक्सी एडवाइजरी फर्म ने जिंदल स्टील एंड पावर की सहायक कंपनी को बेचने पर चिंता जताई

एक प्रॉक्सी सलाहकार फर्म ने जिंदल स्टील एंड पॉवर्स लिमिटेड (जेएसपीएल) द्वारा अपनी सहायक जिंदल पावर लिमिटेड (जेपीएल) में 96.4 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री पर चिंता जताई है। सलाहकार फर्म इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर एडवाइजरी सर्विसेज इंडिया (आईआईएएस) ने इसे पारिवारिक संपत्ति करार दिया है और निवेशकों से इसकी बिक्री के खिलाफ वोट करने का आग्रह किया है। फर्म ने कहा है कि इसकी बिक्री को मंजूरी देने वाली ऑडिट कमेटी स्वतंत्र नहीं है।

सलाहकार फर्म ने कहा, कर्ज कम करने की आड़ में उठाये जा रहे गलत कदम

इसे संबंधित पक्ष का लेनदेन करार देते हुए फर्म ने सवाल उठाया है कि जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड कर्ज घटाने की आड़ में परिवार की संपत्ति बेच रही है। जून में गठित एक नई लेखा परीक्षा समिति ने सहायक कंपनी के लिए वर्ल्डोन द्वारा बोली लगाने को मंजूरी दी। हालांकि इसमें ऐसे स्वतंत्र निदेशकों की नियुक्ति की गई जिनका कार्यकाल महज आठ दिन का था। सही जानकारी के अभाव में समिति इतनी जल्दी कोई उचित निर्णय नहीं ले सकती है।

NSE ने निवेशकों को दी चेतावनी, जानें क्यों स्टॉक एक्सचेंज को जारी करनी पड़ी एडवाइजरी

शेयरधारकों ने किया सौदे का विरोध

जिंदल स्टील एंड पॉवर्स लिमिटेड का सहायक कंपनी को बेचने का निर्णय उसकी ईजीएम से पहले आता है। ईजीएम 3 सितंबर को है। कंपनी को वर्लोन को बेचा जाना है, जो जिंदल परिवार से संबंधित है। जिंदल स्टील एंड पॉवर्स लिमिटेड ने मई में जिंदल पावर लिमिटेड (जेपीएल) को 3015 करोड़ रुपये में बेचने के लिए शेयरधारकों की अनुमति मांगी थी। सौदा नकद में होना था। हालांकि, 21 मई को ईजीएम बैठक से एक दिन पहले इसकी मांग की गई थी। लेकिन निवेशकों द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद बैठक रद्द कर दी गई थी।

See also  महामारी में मुनाफाखोरी! ऑक्सीमीटर, नेबुलाइजर जैसे उपकरणों पर लिया जा रहा है 709% तक का मार्जिन, अब सरकार ने लगाई 70% की सीमा

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, हमारा अनुसरण इस पर कीजिये ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।