चीन का नया युद्धाभ्यास! यदि आप वीजा चाहते हैं, तो आपको भारत सहित 20 देशों के लिए चीनी कोविद वैक्सीन लगाने की आवश्यकता होगी

यात्रा टीकाकरण 19 अन्य देशों के भारतीयों को वीजा देने के लिए चीनी कोविद वैक्सीन चीन की स्थिति लेंअब तक, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चीनी वैक्सीन को मंजूरी नहीं दी है।

यात्रा टीकाकरण: चीनी कोरोना वैक्सीन प्राप्त करने के लिए व्यावसायिक उद्देश्यों या अध्ययन के लिए चीन जाने वालों के लिए अब यह अनिवार्य है। चीन ने इससे संबंधित एक नोटिस जारी किया है। इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, नई दिल्ली में चीनी दूतावास में नोटिस आया है। इस नोटिस के अनुसार, चीन के इस नए नियम के अनुसार, भारत सहित 20 देशों से चीन जाने वाले यात्रियों के पास चीनी टीका का एक प्रमाण पत्र होना चाहिए कि उस व्यक्ति को यह टीका मिला है। ऐसी स्थिति में, भारतीय यात्रियों के लिए यह समस्या आ गई है कि यह टीका भारत में उपलब्ध नहीं है और पाँच टीके पहले ही यहाँ स्वीकृत हो चुके हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन के इस नए नियम के तहत भारत के अलावा ऑस्ट्रेलिया, ग्रीस, इंडोनेशिया, इजरायल, इटली, नाइजीरिया, नॉर्वे, पाकिस्तान और दक्षिण कोरिया के लोगों को चीन का टीका लगवाना होगा। संबंधित देशों में चीनी दूतावासों में इससे संबंधित नोटिस लगाए गए हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका भी इस सूची में शामिल है। चीनी दूतावास के साथ सभी वीजा आवेदकों को चीन दूतावास में बुलाया जाएगा।

आरआईएल के शेयरों में 25% का रिटर्न मिल सकता है, Jio और रिटेल कारोबार में मजबूत वृद्धि की उम्मीद है

वैक्सीन की मंजूरी पर कोई निर्णय नहीं – विदेश मंत्रालय

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने इस नए नियम पर बीजिंग में कहा कि कई देशों ने यात्रा के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया है। पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार झाओ ने चीन के कदम का समर्थन किया। झाओ ने कहा कि चीन ने यह कदम विश्व स्तर पर अपने टीके की मंजूरी पाने के लिए नहीं बल्कि इसके माध्यम से अंतरराष्ट्रीय यात्रा को बहाल करने के लिए उठाया है। झाओ का कहना है कि चीन ने अपने वैक्सीन की प्रभावी क्षमता और सुरक्षा पर विचार करने के बाद ही यह निर्णय लिया है।

डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित नहीं किया गया चीनी टीका

झाओ का कहना है कि चीन का यह फैसला वैक्सीन मान्यता के लिए नहीं है, लेकिन चीन का यह कदम अंतरराष्ट्रीय यात्रा को सामान्य बनाने में मदद करेगा। दिलचस्प बात यह है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने अभी तक चीनी वैक्सीन को मंजूरी नहीं दी है। डब्ल्यूएचओ ने अब तक फाइजर, एस्ट्राजेनेका और मॉडर्न वैक्सीन को मंजूरी दे दी है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम इंडिया न्यूज हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर बहुत कुछ अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।

You May Also Like

About the Author: Sumit

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: