जानिए आपको क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस प्लान क्यों खरीदना चाहिए और यह बेसिक हेल्थ पॉलिसी से कैसे अलग हैक्रिटिकल इलनेस प्लान के तहत गंभीर बीमारी के इलाज के लिए पूरी बीमा राशि उपलब्ध है।

बदलती जीवनशैली और अनुवांशिक कारणों से ज्यादातर लोगों को कैंसर, हार्ट स्ट्रोक, हाइपरटेंशन और डायबिटीज जैसी बीमारियों का सामना करना पड़ता है। यहां लोगों को गंभीर बीमारियों के लिए एक अलग बीमा योजना की आवश्यकता होती है क्योंकि बुनियादी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी में सभी खर्चों को कवर करना मुश्किल होता है। गंभीर बीमारियां लंबे समय तक चलती हैं, जिससे आर्थिक बोझ बढ़ जाता है। ऐसे में बेसिक हेल्थ इंश्योरेंस प्लान के साथ-साथ क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस पॉलिसी लेना बेहद जरूरी है। कम उम्र में गंभीर बीमारियों का कवरेज लेने के लिए आपको कम प्रीमियम देना होगा, ऐसे में इसे कम उम्र में ही लेना चाहिए। भुगतान किए गए प्रीमियम पर धारा 80डी के तहत कर कटौती उपलब्ध है।

हेल्थ इंश्योरेंस: हेल्थ इंश्योरेंस को लेकर सभी भ्रांतियां दूर करें, हेल्थ कवर लेते समय रखें इन बातों का ध्यान

इस प्रकार क्रिटिकल इलनेस प्लान स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी से अलग है।

क्रिटिकल इलनेस प्लान (सीआई प्लान) बुनियादी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों से बहुत अलग हैं। क्रिटिकल इलनेस प्लान के तहत, गंभीर बीमारी के इलाज के लिए पूरी बीमा राशि उपलब्ध है, जिसका उपयोग इलाज और देखभाल की लागत के लिए किया जा सकता है। इससे आपका कर्ज भी चुकाया जा सकता है। हालांकि, कुछ बीमा कंपनियां एंजियोप्लास्टी जैसे कुछ मामलों में बीमा राशि का 50 प्रतिशत देती हैं। इसके विपरीत, स्वास्थ्य बीमा योजना एक क्षतिपूर्ति योजना है जो केवल उन खर्चों को कवर करती है जो खर्च किए गए हैं।

READ  RBI मौद्रिक नीति: RBI ने दरों में बदलाव नहीं किया है, रेपो दर 4% पर बनी हुई है; FY22 में GDP ग्रोथ 10.5% रह सकती है

हेल्थ इंश्योरेंस खरीदते समय इन 6 गलतियों से बचें, चिंता होगी अस्पताल के खर्चे

गंभीर बीमारी योजना के बारे में महत्वपूर्ण बातें

  • यदि किसी बीमाधारक के पास बीमा कंपनियों की एक से अधिक गंभीर बीमारी की पॉलिसी है, तो सभी बीमा कंपनियां पूर्ण बीमा देगी।
  • इस योजना के तहत 10-20 प्रमुख गंभीर बीमारियों को कवर किया जाता है। वहीं, कुछ बीमा कंपनियां इस प्रकार की योजना के तहत 40 गंभीर बीमारियों के लिए कवर प्रदान करती हैं।
  • इन योजनाओं में कैंसर, कोरोनरी यूरिनरी बायपास सर्जरी, हार्ट अटैक, स्ट्रोक, किडनी फेल्योर, एओर्टी सर्जरी, हार्ट वॉल्व रिप्लेसमेंट, मेजर ऑर्गन ट्रांसप्लांट और पैरालिसिस शामिल हैं।
  • इस प्रकार की योजना को जीवन या स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के साथ एक राइडर के रूप में भी खरीदा जा सकता है, लेकिन यदि आप एक अलग सीआई योजना लेते हैं, तो आपको अधिक लचीलापन मिलेगा अर्थात आप बीमा राशि और कवर के संबंध में बेहतर निर्णय ले सकेंगे। . आम तौर पर राइडर के तहत आपको मूल पॉलिसी जितना ही कवर मिलता है।
  • क्रिटिकल इलनेस इंश्योरेंस प्लान बहुत कम उम्र में ही ले लेना चाहिए ताकि प्रीमियम के तौर पर थोड़ी सी रकम चुकानी पड़े। इस प्रकार की योजना को अधिक उम्र में खरीदने का एक और नुकसान यह है कि तब आप कम बीमारियों के लिए ही कवरेज प्राप्त कर सकते हैं।
  • विभिन्न बीमा कंपनियों ने गंभीर बीमारियों के इलाज के बाद या पॉलिसी खरीदने के बाद दावे के लिए एक निश्चित अवधि तय की है कि कुछ बीमा कंपनियां पॉलिसी खरीदने के 90 दिनों के बाद और गंभीर बीमारियों के इलाज के 30 दिन बाद कवरेज राशि देती हैं। तक जीवित रहने पर दावा करने का मौका देता है।
  • कुछ बीमा कंपनियां विदेश में इलाज के लिए कवरेज भी देती हैं।
    (स्रोत- मैक्सलाइफ इंश्योरेंस)
READ  IPL 2021 को अनिश्चित काल के लिए निलंबित, BCCI ने की पुष्टि; केकेआर और सीएसके के बाद, SRH खिलाड़ी भी सकारात्मक सकारात्मक हो गए

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और बहुत कुछ फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी पर। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।