कोरोना की दूसरी लहर ने अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की मांग को बड़ा झटका दिया है। देश के आठ महानगरों में अप्रैल-जून तिमाही में मकानों की बिक्री में पिछली तिमाही के मुकाबले 55 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. दिल्ली-एनसीआर के बाजार में तो स्थिति और भी खराब है। यहां हाउसिंग प्रॉपर्टी की बिक्री में 70 फीसदी की गिरावट आई है। कोरोना की दूसरी लहर के चलते इस बाजार में घरों से जुड़ी पूछताछ में कमी आई है। दिल्ली-एनसीआर की संपत्तियों के लिए अप्रैल से 31 मई के बीच लॉकडाउन की अवधि काफी खराब साबित हुई. जून के बाद कुछ मांग दिखने लगी लेकिन आंशिक लॉकडाउन के कारण रिकवरी की प्रक्रिया बेहद धीमी है।

दिल्ली-एनसीआर में हाउसिंग प्रॉपर्टी की बिक्री 70 फीसदी घटी

99एकड़ की इनसाइट रिपोर्ट (अप्रैल-जून, 2021) में कहा गया है कि अप्रैल-जून तिमाही में दिल्ली-एनसीआर में आवास संपत्ति की बिक्री में पिछली तिमाही की तुलना में 70 प्रतिशत की गिरावट आई है। कई डेवलपर्स ने नई लॉन्चिंग को तीसरी तिमाही तक के लिए टाल दिया, इसलिए घरों की नई आपूर्ति में गिरावट आई। अभी भी यहां डेढ़ लाख घर नहीं बिके हैं। जून 2021 तक दिल्ली-एनसीआर में इतनी सारी हाउसिंग प्रॉपर्टी पड़ी हैं। इस इन्वेंट्री को क्लियर करने में करीब पांच साल का समय लगेगा।

FY22 में 10% की दर से बढ़ेगी GDP, ADB ने घटाया कोरोना के कारण ग्रोथ का अनुमान

कोरोना के कारण ढह गई घरों की मांग Demand

99एकड़ डॉट कॉम के मुख्य व्यवसाय अधिकारी मनीष उपाध्याय ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण अन्य बाजारों की तरह संपत्ति बाजार बुरी तरह प्रभावित हुआ. लॉकडाउन के चलते इस सेक्टर में लेन-देन में भारी गिरावट आई है। जनवरी-मार्च में ग्राहकों की ओर से साइट विज़िट में वृद्धि हुई थी लेकिन अप्रैल-जून में यह लगभग ठप हो गई थी। उन्होंने कहा कि यह आश्चर्य की बात नहीं है क्योंकि लोग कोरोना के कारण स्वास्थ्य देखभाल और दवाओं पर खर्च कर रहे थे।

See also  केंद्र सरकार का दावा; देश में हर व्यक्ति को मिलेगी कोविड की वैक्सीन, अगस्त से दिसंबर तक 216 करोड़ डोज मिलेंगी

अप्रैल-जून तिमाही के दौरान, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के बाजारों में संपत्ति की कीमतों में तेज गिरावट देखी गई। हालांकि जीएसटी लाभ और कम जोखिम के कारण पुनर्विक्रय बाजार में कुछ तेजी देखी गई, प्राथमिक बाजार में बिक्री खराब स्थिति में थी। दोनों जगहों पर नई आवास बिक्री में पिछली तिमाही की तुलना में अप्रैल-जून में 60 फीसदी की गिरावट आई है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।