कोविड-19 संकट में एमएसएमई को राहत, विश्व बैंक ने दी 50 करोड़ डॉलर के कार्यक्रम को मंजूरीविश्व बैंक ने MSME क्षेत्र की मदद के लिए भारत सरकार की पहल का समर्थन करने के लिए $500 मिलियन के कार्यक्रम को मंजूरी दी है।

विश्व बैंक ने MSME क्षेत्र की मदद के लिए भारत सरकार की पहल का समर्थन करने के लिए $500 मिलियन के कार्यक्रम को मंजूरी दी है। 30 मई को, सरकार ने अपनी 3 लाख करोड़ रुपये की आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना (ECLGS) को तीन महीने तक बढ़ाने की घोषणा की थी। इस योजना को 30 जून 2021 से 30 सितंबर 2021 तक या 3 लाख करोड़ रुपये की राशि जारी होने तक बढ़ा दिया गया है। वित्त मंत्रालय ने अस्पतालों, नर्सिंग होम, क्लीनिकों, मेडिकल कॉलेजों के लिए ऑन-साइट ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के लिए 7.5 प्रतिशत की ब्याज दर के साथ 2 करोड़ रुपये तक के ऋण पर 100% गारंटी की भी घोषणा की थी।

ECLGS 1.0 की अवधि भी बढ़ाई गई

मंत्रालय ने एमएसएमई और अन्य इकाइयों के लिए योजना अवधि के विस्तार की भी घोषणा की थी, जो पुनर्गठन के लिए पात्र हैं और 5 मई, 2021 के दिशानिर्देशों के अनुसार ईसीएलजीएस 1.0 के तहत क्रेडिट ले चुके हैं। ईसीएलजीएस 1.0 के तहत चार साल का कुल कार्यकाल, जिसमें शामिल हैं पहले 12 महीनों में ब्याज की चुकौती, जिसके साथ ईसीएलजीएस 1.0 के तहत 36 महीनों में मूलधन और ब्याज की अदायगी, अपने ईसीएलजीएस ऋण के लिए पांच साल की अवधि का लाभ उठा सकते हैं।

दिल्ली अनलॉक प्रक्रिया: दिल्ली में ऑड-ईवन फॉर्मूले के तहत खुले बाजार और मॉल, 50 फीसदी क्षमता से चल रही पटरियों पर मेट्रो भी

READ  कोविद -19 भारत: कोरोना ने कहर बरपाया; 1 दिन में 3417 मौतें और 3.68 लाख मामले, सक्रिय मामले 34 लाख को पार करते हैं

इससे पहले शुक्रवार को आरबीआई ने भी संकट से गुजर रहे एमएसएमई के लिए कर्ज पुनर्गठन की सीमा 25 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 50 करोड़ रुपये कर दी थी। RBI ने कहा था कि इससे MSME और गैर-MSME छोटे व्यवसायों और व्यक्तिगत ग्राहकों को व्यवसाय के लिए ऋण से राहत मिलेगी। रीस्ट्रक्चरिंग के तहत बैंक ग्राहकों की सुविधा के लिए मौजूदा कर्ज की शर्तों में बदलाव करते हैं। इस तरह कर्ज चुकाने के लिए ज्यादा समय मिल जाता है। इसके साथ ही निर्धारित शर्तों के तहत ब्याज देयता की आवृत्ति में भी बदलाव किया जाता है।

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।