काम के लिए इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ने के साथ ही ऑनलाइन फ्रॉड भी बढ़ गया है। कोई आपका पासवर्ड चुरा सकता है और आपके अकाउंट से पैसे निकाल सकता है तो कोई आपको फिशिंग के जरिए नुकसान पहुंचा सकता है। जब हैकर्स बड़े संस्थानों पर हमला करते हैं तो तरह-तरह के साइबर ठग अपने उल्लू को सीधा करने के लिए जाले बुनते हैं। सेकेंड हैंड फोन, सस्ते ऑफर या ज्यादा सैलरी वाले जॉब ऑफर का बहाना बनाकर आपको ठगा जा सकता है। ऐसे में आपका सावधान रहना बेहद जरूरी है। सरकार भी इस मामले में काफी सजग है।

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ऑनलाइन धोखाधड़ी या साइबर अपराध की शिकायत दर्ज कराने के लिए एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। यह संख्या -155260 है। अगर आप ऐसी किसी दुर्घटना या अपराध के शिकार हैं तो तुरंत इस नंबर पर कॉल करें। आप इस नंबर पर धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

इस तरह काम करता है यह सिस्टम

गृह मंत्रालय के अधीन कार्यरत भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र (I4C) केंद्र साइबर धोखाधड़ी या अपराध की शिकायत मिलते ही सक्रिय हो जाएगा। यहां से तत्काल जानकारी बैंकों और आरबीआई से जुड़े ऑनलाइन पेमेंट प्लेटफॉर्म तक पहुंचेगी। इससे धोखाधड़ी का तुरंत पता चल जाएगा और समस्या का जल्द समाधान हो जाएगा।

WhatsApp प्राइवेसी पॉलिसी: ढीला पड़ रहा है WhatsApp का रवैया, कहा- यूजर्स के लिए फिलहाल नई प्राइवेसी पॉलिसी का पालन करना जरूरी नहीं

वर्तमान में, 7 राज्यों में एक राष्ट्रीय हेल्पलाइन है।

वर्तमान में 7 राज्यों में राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर शुरू किया गया है। ये राज्य हैं छत्तीसगढ़, दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश। कुछ समय बाद या आने वाले दिनों में यह नंबर अन्य राज्यों में भी लागू किया जाएगा। अब तक उन राज्यों में साइबर अपराधियों से 1.85 करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की जा चुकी है, जहां एक हेल्पलाइन नंबर पहले से ही सक्रिय था। उम्मीद है कि सरकार की इस पहल से ऑनलाइन ठगी के शिकार लोगों को काफी राहत मिलेगी.

READ  UAPA मामलों में अखिल गोगोई NIA कोर्ट से बरी, तीन साथियों समेत जेल से रिहा

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।