ब्याज गणना या आवर्ती जमा आरडी कैलकुलेटर के बारे में जानेंआरडी पर ब्याज कंपाउंडिंग के हिसाब से कंपाउंड होता है यानी लंबी अवधि के लिए आरडी मिलने पर फायदा बढ़ जाएगा।

आवर्ती जमा पर ब्याज दर की गणना करें: सुरक्षित निवेश विकल्पों की बात करें तो आवर्ती जमा (आरडी) एक बेहतर विकल्प है। मार्केट लिंक्ड न होने के कारण यह निवेशकों को उनकी जमा राशि पर निश्चित रिटर्न देता है। इसके अलावा आरडी में निवेश करने पर एफडी या सेविंग अकाउंट से ज्यादा ब्याज मिलता है, जिससे रिटर्न बढ़ता है। अपनी वित्तीय योजना तय करते समय, यह समझना चाहिए कि आरडी पर ब्याज की गणना कैसे की जाती है क्योंकि इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि आपके वित्तीय लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कितनी पूंजी जमा की जा सकती है।

पेटीएम: आईपीओ की घोषणा के एक हफ्ते बाद ग्रे मार्केट में 24 हजार पर पहुंचे शेयर, आईपीओ सब्सक्रिप्शन को लेकर एक्सपर्ट्स की ये है सलाह

RD पर ब्याज की गणना कैसे की जाती है

RD पर ब्याज की गणना के लिए अलग-अलग फॉर्मूले हैं।

यदि आप मासिक निवेश करते हैं,

एम = आर [(1+i)n – 1] 1-(1+i)(-1/3) से विभाजित

एम: आरडी का परिपक्वता मूल्य
आर: आरडी की मासिक किस्त की संख्या
n: कार्यकाल (तिमाहियों की कुल संख्या)
मैं: ब्याज दर/400

यदि आप एकमुश्त राशि जमा करते हैं,

ए = पी (1 + आर/एन) ^ एनटी

ए: अंतिम राशि
पी: कुल निवेश
आर: ब्याज दर
n: एक वर्ष में ब्याज कितनी बार संयोजित होता है
टी: आरडी का कुल कार्यकाल Total

इसके अलावा, कई बैंक या संस्थान RD कैलकुलेटर की सुविधा भी प्रदान करते हैं जिसके उपयोग से आप अपने निवेश पर रिटर्न के मूल्य का अनुमान लगा सकते हैं।

READ  IRDAI एक्शन: 'आज टर्म प्लान खरीदकर 1.65 लाख बचाएं', इस एसएमएस से पॉलिसीबाजार पर लगा 24 लाख का जुर्माना

इनसाइडर ट्रेडिंग में इंफोसिस के कर्मचारियों पर सेबी की कार्रवाई का असर, कंपनी के शेयर गिरे

RD में निवेश करने के लिए कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें

  • आरडी पर ब्याज कंपाउंडिंग के हिसाब से कंपाउंड होता है यानी लंबी अवधि के लिए आरडी मिलने पर फायदा बढ़ जाएगा।
  • RD करते समय सभी बैंक और डाकघर किस दर पर ब्याज दे रहे हैं, इसकी तुलना जरूर करें और उस बैंक में निवेश करें जहां RD पर अधिक ब्याज मिल रहा है।
  • किसी बैंक में RD के लिए पहले से ही वहां बैंक खाता होना जरूरी नहीं है, लेकिन अगर किसी बैंक में खाता है तो RD तुरंत खुल जाता है।
  • वरिष्ठ नागरिकों को अधिक दर पर ब्याज मिलता है।
  • आरडी खाता 10 साल तक की अवधि के लिए खोला जा सकता है।

विभिन्न बैंकों या संस्थानों में आरडी की वार्षिक दरें

बैंक – दर (सामान्य जनता) (%) – दर (वरिष्ठ नागरिक) (%)
एचडीएफसी – 6.30 – 6.8
आईसीआईसीआई – 6.2-6.4 – 6.7-6.9
एसबीआई – 6 – 6.5
इलाहाबाद बैंक – 6.25-6.45 – 6.25-6.45
इंडसइंड बैंक – 6.65-6.75 – 7.15-7.25
डाकघर – 7.2 – 7.2
यस बैंक – 7.25-7.5 – 7.75-8
(स्रोत: bankbazaar.com)

प्राप्त व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।