आईपीओ आवंटन की संभावना कैसे बढ़ाएं, यहां जानिए आईपीओ सदस्यता के लिए कुछ तरकीबेंबाजार विश्लेषकों का मानना ​​है कि चालू वित्त वर्ष में पूरे साल आईपीओ का माहौल बना रहेगा। इस वित्त वर्ष में 70 हजार करोड़ रुपये के 40 और आईपीओ आ सकते हैं।

आईपीओ आवंटन की संभावना बढ़ाएं: चालू वित्त वर्ष 2021-22 में आईपीओ की बारिश हो रही है। बाजार विश्लेषकों का अनुमान है कि चालू वित्त वर्ष में पूरे साल आईपीओ का माहौल बना रहेगा। इस वित्त वर्ष में 70 हजार करोड़ रुपये के 40 और आईपीओ आ सकते हैं। आईपीओ को लेकर निवेशकों में जबरदस्त उत्साह है लेकिन शेयरों का आवंटन सभी के लिए संभव नहीं है। कुछ निवेशकों की शिकायत है कि वे कई आवेदन करते हैं लेकिन उन्हें शेयरों का आवंटन कभी नहीं मिलता है। कुछ लोग केवल एक ही आवेदन करते हैं लेकिन उन्हें शेयर मिलते हैं। शेयरों के आवंटन की प्रक्रिया स्वचालित है लेकिन कुछ तरीकों को अपनाकर आप इस सूची में अपना नाम आने की संभावना बढ़ा सकते हैं।

रोलेक्स रिंग्स लिस्टिंग: रोलेक्स रिंग्स ने पहले ही दिन निवेशकों को दिया 39% मुनाफा, जबरदस्त प्रीमियम पर बाजार में उतरी

इस तरह शेयर आवंटन की संभावना बढ़ाई जा सकती है

  • बड़े आवेदनों पर अधिक बोली लगाने से बचें: सेबी की आवंटन प्रक्रिया ऐसी है कि 2 लाख रुपये से कम के सभी आवेदन (खुदरा आवेदन) को समान माना जाता है। इसलिए, जिन आईपीओ में ओवरसब्सक्राइब होने की अत्यधिक संभावना है, निवेशकों को बड़ी बोलियां लगाने के बजाय कई खातों के माध्यम से न्यूनतम बोलियां लगानी चाहिए। इससे आपको बचा हुआ पैसा दूसरे आईपीओ में भी निवेश करने का मौका मिल सकता है।
  • एक ही आईपीओ में कई खातों से बोलियां लगाएं: किसी एकल खाते से आईपीओ के लिए अधिकतम बोली न लगाएं। ओवरसब्सक्राइब्ड आईपीओ के लिए निवेशकों को कई खातों के माध्यम से आवेदन करना चाहिए। इससे शेयरों के आवंटन की संभावना बढ़ जाती है।
  • प्राइस बैंड के ऊपरी मूल्य पर बोली लगाएं: किसी कंपनी के आईपीओ के लिए निर्धारित प्राइस बैंड के ऊपरी मूल्य पर बोली लगाना। इससे अलॉटमेंट मिलने की संभावना बढ़ जाती है।
See also  विश्व परीक्षा 100 साल बाद, गांवों में भी तेजी से फैल रही है महामारी: पीएम मोदी

नए आईपीओ: कार्ट्रेड टेक और नुवोको विस्टा का आईपीओ आज खुला, इस हफ्ते चार कंपनियों में निवेश का मौका

  • अंतिम दिन सदस्यता लेने से बचें: आईपीओ को सब्सक्राइब करने के लिए निवेशकों के पास कुछ दिन हैं। कुछ निवेशक आखिरी दिन आईपीओ को सब्सक्राइब करने की कोशिश करते हैं, जिससे बचना चाहिए। अंतिम समय में बोली लगाने के परिणामस्वरूप एचएनआई और क्यूआईबी की उच्च सदस्यता के कारण बैंक खाता प्रतिक्रिया नहीं दे सकता है या किसी अन्य तकनीकी समस्या के कारण बोलियां नहीं लगाई जा सकती हैं। ऐसे में अगर आपने आईपीओ को सब्सक्राइब करने का फैसला कर लिया है तो इश्यू खुलने के बाद आखिरी मिनट का इंतजार न करें।
  • बैंक खाते के माध्यम से बोली लगाने के लिए: आप अपनी ब्रोकरेज फर्म के प्लेटफॉर्म के जरिए आईपीओ के लिए बोली लगा सकते हैं। इसके अलावा बैंक यह सुविधा भी देते हैं। निवेशक बैंक के माध्यम से एएसबीए (एप्लीकेशन सपोर्टेड बाय ब्लॉक्ड अमाउंट) के जरिए आईपीओ के लिए बोली लगा सकते हैं। एएसबीए के माध्यम से बोली लगाने से तकनीकी कारणों से आवेदन के खारिज होने की संभावना लगभग समाप्त हो जाती है।
  • पैरेंट या होल्डिंग कंपनी में शेयर खरीदें: यह तरीका सभी आईपीओ में प्रभावी नहीं है। यह केवल उन आईपीओ के लिए प्रभावी है जहां आईपीओ लाने वाली कंपनी की मूल कंपनी पहले से ही बाजार में सूचीबद्ध है। डीमैट खाते में मूल कंपनी का एक शेयर होने से निवेशक शेयरधारक श्रेणी के तहत आवेदन करने के योग्य हो जाता है और फिर उसके शेयरों के आवंटन की संभावना बढ़ जाती है। निवेशक शेयरधारक श्रेणी के अलावा खुदरा निवेशक श्रेणी से भी आवेदन कर सकता है। यदि आप दोनों श्रेणियों से आवेदन करते हैं तो आवंटन की संभावना बढ़ जाती है।
See also  Realme लैपटॉप फर्स्ट लुक: भारत में Realme का पहला लैपटॉप जल्द लॉन्च होने की उम्मीद, पहला लुक मैकबुक एयर की याद दिलाता है

FY22 में अब तक आए 16 कंपनियों के IPO

चालू वित्त वर्ष 2021-22 में अब तक 16 कंपनियों के आईपीओ आ चुके हैं। कंपनियों ने इन 16 आईपीओ के जरिए 30,666 करोड़ रुपये जुटाए हैं। इसकी तुलना पूरे पिछले वित्त वर्ष 2020-21 से करें तो आईपीओ बाजार काफी उत्साहित है क्योंकि पिछले वित्त वर्ष में 30 कंपनियों ने पूरे साल आईपीओ के जरिए 31277 करोड़ रुपये जुटाए थे। बाजार विश्लेषकों का मानना ​​है कि चालू वित्त वर्ष में पूरे साल आईपीओ का माहौल बना रहेगा। इस वित्त वर्ष में 70 हजार करोड़ रुपये के 40 और आईपीओ आ सकते हैं।

पाना व्यापार समाचार हिंदी में, नवीनतम भारत समाचार हिंदी में, और शेयर बाजार पर अन्य ब्रेकिंग न्यूज, निवेश योजना और फाइनेंशियल एक्सप्रेस पर बहुत कुछ। हुमे पसंद कीजिए फेसबुक, पर हमें का पालन करें ट्विटर नवीनतम वित्तीय समाचार और शेयर बाजार अपडेट के लिए।